Citizen's forum

महात्मा गांधी एक नाम जिसे किसी परिचय या पहचान की आवश्यकता नहीं पड़ती क्योंकि विश्व के लगभग सभी देशों ने सम्मान पूर्वक इनके बुत स्थापित किए हैं या गांधी के नामपर सड़के बनाई है।

कहते हैं कि किसी भी पुरुष की तरक्की में औरत का हाथ होता है। इसकी पुष्टि या पक्ष विपक्ष में तो बहुत से तर्क, कुतर्क दिए जा सकते है लेकिन यह शाश्वत सत्य है कि घर की स्त्री साथ ना दे तो व्यक्ति तरक्की कर ही नही सकता।...

जीव जीवस्य भोजनम और विसर्जन से सृजन के पीछे प्रकृति का जीवन चक्र कितना तार्किक है इसे समझना चाहिए।

कहते है कि समुद्र के एक हिस्से से जैसे ही शार्क मछली पलायन करके दूर चली गई तो उस हिस्से से झींगा मछली भी विलुप्त हो गई जबकि शार्क उन्हीं झींगा मछली को खाकर जीवित रहती थी।...

वैसे तो महात्मा गांधी को व्यक्ति नहीं कहना चाहिए क्योंकि वो एक विचारधारा का नाम है और विचार कभी मरा नहीं करते।

निसंदेह महात्मा गांधी किसी व्यक्ति का नहीं अपितु विचारधारा का नाम था और विचार कभी मरा नहीं करते। गांधी जी की शहादत के दिन 30 जनवरी को एक रवायती कार्यक्रम आयोजित करने की परम्परा भारत में रही है लेकिन क्योंकि मौजूदा भारत सरकार को आरएसएस से जोड़ कर देखा जाता हैं और इनके कुछ फैसलों पर सवाल भी खड़े हुए हैं तो इस बार गांधी और गोडसे फिर से चर्चा का विषय बन गए।...

भारत का दुर्भाग्य है या राजनेताओं की साज़िश कि यहां साम्प्रदायिकता और व्यर्थ की बहस ज्यादा होती है, शिक्षा, स्वास्थ्य की नहीं।

इसे एक राजनीतिक साज़िश ही मानना चाहिए कि भारत में आमतौर पर बहस के विषय हिन्दू मुस्लिम सिख या स्वर्ण जाति और दलित पिछड़े होते है लेकिन शिक्षा और स्वास्थ्य पर कोई बात नही करना चाहता, युवाओं के रोजगार और बेहतर भविष्य भी मन्दिर मस्जिद की आड मे भुला दिए जाते है।...

गांधी जी की शहादत और उसके बाद आतंकियों का लेखा जोखा ?

आज ही के दिन 30 जनवरी को महात्मा गांधी के शरीर पर हिन्दुत्व वादी आतंकवादी ने तीन गोलियां चला दीं और हड्डियों के ढांचे में बदल चुके शरीर की धड़कन बन्द हो हुई। उससे आगे का इतिहास श्रवण गर्ग के शब्दो मे।...

वृहत हिंदुस्तान के टूटने का सिलसिला सदियों से चला आ रहा है और हमेशा इस टूट के पीछे हिटलर जैसी सोच रही है कि वो ही सर्वश्रेष्ठ है।

कहते है जब बाबर हिंदुस्तान में आया तो उसने लिखा कि धरती पर यदि कुदरत ने अपना सबसे ज्यादा खजाना लुटाया है तो वो हिंदुस्तान की सरजमीं है। बेशक उसके बाद शाहजहां ने कश्मीर को देखकर बोला था कि यदि कहीं स्वर्ग है तो वो यहीं है, यहीं है।...

Need of new airports and political jumlabaazi

All political parties need to put in their manifesto for helping increase connectivity with existing airports by providing special incentives, lower taxes especially on fuel, promoting tourism, starting bus services to Amritsar Airport- the only international airport devoid of bus connectivity....

दिल्ली के द्वारका क्षेत्र में चर्च में तोड़फोड़ और नुकसान पहुंचाया गया

भारतीय समाज में धार्मिकता या धर्मांधता के बोए गए बीजो से अंकुर फूटने शुरू हो चुके है और कब ये अमरबेल बनकर हरियाली को निगल ले इससे पहले ही सचेत हो जाना चाहिए।...

पंजाब चुनाव प्रचार या पंजाबियत को खत्म करने की साज़िश ?

कुल पांच राज्यों के चुनावों में भारत के सभी बड़े राजनीतिक दलों के लिए महत्वपूर्ण उत्त प्रदेश एवम् पंजाब ही है क्योंकि बीजेपी की केंद्र सरकार के लिए भी अलग अलग कारणों से इनकी महत्ता समझी जा रही है।...

भारत सरकार द्वारा मनाया गया संविधान दिवस और संविधान एवम् समाज का विरोधाभास !

भारत सरकार या दूसरे शब्दो में कहे तो भारतीय जनता पार्टी ने आज संविधान दिवस मनाया और संकेत दिए कि 26 जनवरी को मनाए जाने वाले गणतंत्र दिवस के स्थान पर 26 नवम्बर को संविधान दिवस मनाया जाना ज्यादा बेहतर होगा क्योंकि इतिहास, परमपराएं और धर्म निरपेक्ष संविधान बदलने का लक्ष्य बीजेपी नेता बता चुके है।...

शतरंज एक खेल या स्ट्रेटिक प्लानिंग ?

शतरंज एक ऐसा खेल जिसकी शुरुआत हिंदुस्तान की जमीन से मानी जाती हैं और कुछ आलोचक इसे हिंसक मानसिकता को बढ़ावा देने वाला भी कहते है लेकिन इसका इतिहास और विवरण कृष्णा रूमी ने बेहतर तरीके से समझाया है।...

निमनिया दा मान, नी ओटेया दी ओट ! तू बिछड़ो को मिलाए, तभी तो ब्रह्म कहाए ।।

1947 हिंदुस्तान की आज़ादी और पंजाब तथा बंगाल के सीनो पर बटवारे का खंजर जिसके दर्द से न जाने कितने इंसानों ने खून के आंसू रोए होंगे बेशक सियासतदानों के पत्थर दिल नहीं पिघले।...

महात्मा गांधी और अंग्रेज़ो से लोहा लेने वाले तत्कालीन नेता महान क्यों कहलाते है ?

भारत के राज्य महाराष्ट्र और आर्थिक राजधानी मुंबई से लगातार हो रहे खुलासों से आईआरएस अधिकारी समीर वानखेड़े की नीदें तो बेशक उड़ी ही होंगी लेकिन नवाब मलिक द्वारा नित नए खुलासों से एक बार तो सोचने पर मजबूर होना पड़ता है कि हिंदुस्तान की जनता महात्मा गांधी, नेहरू, सुभाष आदि को महान क्यों कहती है और दूसरी ओर जिन्ना को भी इसी श्रेणी में क्यो रखा जाता हैं हालांकि भारतीयों के लिए मोहम्मद अली जिन्ना केवल बटवारा करने का जिम्मेदार ठहरा कर दोषी करार दे दिया गया।...

ਨਾ ਟਰੋਂ ਅਰਸੋ ਅਰ ਜਾਏ ਲਰੋ। ਨਿਸਚੈ ਕਰ ਅਪਨੀ ਜੀਤ ਕਰੋਂ ।।

जब आव की औध निदान परे, तब ही रण में तौंजूझ प्रौं । ना टरों अर्सुं अर जाय लरूं, निश्चय कर अपनी जीत करौं ।। अर्थात आवश्यकता और समय पर में युद्ध में युद्धरत हो जाऊं, निडरता से लड़ता हुआ, निश्चित रूप से अपने लिए विजय प्राप्त करूं।।...

कुछ तो है जिसकी जानकारी होना जरूरी है क्योंकि कंगना रनौत से पहले भी बहुत थी !

शायद इस संसार में कुछ कौमें जन्म ही इसलिए लेती हैं कि हक और इंसानियत के लिए पीढ़ी दर पीढ़ी संघर्ष करती रहे लेकिन अपनी आन बान शान पर बट्टा ना लगने दे लेकिन कुछ गैंग ऐसे भी होते है जिनका जन्म ही साजिशें रचने और इंसानियत के विरूद्ध सभी प्रयत्न करने के लिए हुआ लगता है।...

भारत सरकार की सफलताओं में एक सितारा और बढ़ गया।

दूरदृष्टी, पक्का इरादा और सही समय पर सही निर्णय किसी भी सरकार की सफलता एवम् उसके देश की प्रगति का पहला नियम होता है। इसी प्रकार विदेशनीति, देशनिती और चुनावी रणनीति अलग अलग विरोधी ध्रुव होने चाहिए लेकिन होते नहीं।...

ਬੇਬੇ ਨੇ ਖ਼ਸਮ ਕਿੱਤਾ, ਬਹੁਤ ਮਾੜਾ ਕਿੱਤਾ ਕਰਕੇ ਛੱਡ ਤਾਂ, ਹੋਰ ਵੀ ਮਾੜਾ ਕਿੱਤਾ ।।

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपने चुनावी भाषणों में अपने वोटरों को भारतीय प्रतिभाओं से सचेत रहने की चेतावनी देते हुए कहा था कि Indian mind-set अमेरिकी नागरिकों के रोजगार पर काबिज होने की क्षमता रखता है।...

ਪੰਜਾਬੀਆਂ ਦੀ ਸ਼ਾਨ ਵੱਖਰੀ ! ਮੁੱਖਮੰਤਰੀ ਪੰਜਾਬ ਤੇ ਆਮ ਆਦਮੀ ਪਾਰਟੀ ਦੇ ਕੇਜਰੀਵਾਲ ਦੇ ਵੜੇ ਵੜੇ ਵਾਯਦੇ।

कहते तो यही है कि पंजाबियों की शान वखरी ( अलग ) वैसे भी व्यवहार में देखा जाए तो सांस्कृतिक अंतर स्पष्ट नजर आता है और जब वोटर बड़े आंगन बड़े और लोग भी बड़े दिल वाले होंगे तो नेताओ की मजबूरियां हो जाती हैं कि उनके वायदे भी बड़े बड़े हो बेशक झूठे ही हो और बाद में जुमला कहकर भुला दिए जाएं।...

गोल पोस्ट बदल रहा है और यदि भारत के हिन्दुत्व वादी अभी भी नहीं संभले तो बहुत देर हो चुकी होगी !

भारत के संविधान और राष्ट्र वाक्य के रूप में "सत्यमेव जयते" लिखा होता है जिसका अर्थ है कि सच्चाई की जीत होती हैं।...

किसान आंदोलन स्थल सिंघू बॉर्डर दिल्ली में श्री गुरु नानक देव जी के प्रकाश उत्सव पर शोभा यात्रा एवम् एसकेएम द्वारा जारी प्रेस नोट।

21 नवम्बर 2021 भारतीय प्रधान मंत्री द्वारा खेती विरोधी कानूनों की वापसी की घोषणा के बाद आज दिल्ली सरहद स्थित किसान आंदोलन स्थल पर श्री गुरु नानक देव जी के प्रकाश उत्सव के उल्लास में शोभा यात्रा निकाली गई और संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा आपसी चर्चा के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की गई।...

पिता पर पुत्र/पुत्री का भरोसा टूट जाए तो घर टूटने की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता !

किसी भी सामाजिक और पारिवारिक व्यक्ति ने न केवल देखा होगा अपितु खुद भी अनुभव किया होगा कि पिता, चाचा या घर का कोई बड़ा बच्चे को ऊंची जगह पर खड़ा करके बांहे फैला कर कूदने के लिए कहता है।...

भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता गौरव भाटिया द्वारा घटिया स्तर की मर्दवादी सोच जाहिर की गई जिस पर प्रश्न चिन्ह खड़े किए जा रहे हैं।

इस समाचार और बीजेपी प्रवक्ता के सोच के स्तर से अहसास होता है कि भारतीय राजनीति और कथित बुद्धिजीवियों का मानसिक स्तर किस प्रकार की सोच रखता है।...

चीन द्वारा भारतीय सीमा में लगातार घुसपैठ जारी।

कांग्रेस द्वारा लगाए गए आरोपों के अनुसार चीन ने एक अन्य घटना में अरुणाचल प्रदेश के भारतीय इलाके पर कब्ज़ा करके अपना दूसरा गांव बसा लिया है।...

ਕੀ ਪੰਜਾਬ ਦਾ ਮੀਡੀਆ ਵੀ ਫਿਰਕੂ ਧੜੇ ਦੀ ਗੋਦੀ 'ਚ ਖੇਡ ਰਿਹੈ? (ਨਿਊਜ਼ਨੰਬਰ ਖ਼ਾਸ ਖ਼ਬਰ)

ਪਹਿਲਾਂ ਨੈਸ਼ਨਲ ਮੀਡੀਆ ਗ਼ਰੀਬਾਂ ਤੇ ਅਜਿਹੇ ਇਲਜ਼ਾਮ ਲਗਾਉਂਦਾ ਸੀ ਕਿ, ਪੁਲਿਸ ਉਨ੍ਹਾਂ ਨੂੰ ਅੱਤਵਾਦੀ ਅਤੇ ਟੁਕੜੇ ਟੁਕੜੇ ਗੈਗ ਕਹਿ ਕੇ ਸਲਾਖ਼ਾਂ ਪਿੱਛੇ ਸੁੱਟ ਦਿੰਦੀ ਸੀ, ਹੁਣ ਤਾਂ ਪੰਜਾਬ ਦਾ ਮੀਡੀਆ, ਜਿਸ ਤੇ ਸਾਨੂੰ ਵਿਸਵਾਸ਼...

Load More