Farmer's lives matters. लेकिन भारत के बीजेपी शासित उत्तर प्रदेश एवम् हरियाणा में सरकार इसका अर्थ भी नहीं समझती।

अमेरिका में एक नागरिक को पुलिस अधिकारी ने घुटने तले सांस घोट कर मार डाला था। क्योंकि मृतक अफ्रीकी मूल का था ( काला ) तो आरोप लगा कि पुलिस अधिकारी व्हाइट सुपरमैसी की भावना से ग्रस्त था जिसके कारण उसे काले व्यक्ति को देखते ही गुस्सा आ गया और उसने बेकाबू होकर उसकी सार्वजनिक स्थान पर हत्या कर दी।

इस घटना के बाद पूरा अमेरिका भड़क उठा और अंततः दोषी पुलिस वाले को कानून ने सजा सुना दी। 

लेकिन भारत अमेरिका से एकदम विपरीत है जिसका एक उदाहरण तो हरियाणा राज्य के करनाल में पिछले महीने देखा गया था जब स्थानीय आईएएस अफसर पुलिस वालो को निर्देश दे रहा था कि किसानों का सिर फोड़ दो। एक किसान की मृत्यु के बाद धरना प्रदर्शन हुए लेकिन दोषी अफसर के विरूद्ध कोई कार्यवाही नहीं हुई।

कल लगभग इसी प्रकार की घटना में उत्तर प्रदेश राज्य के लखीमपुरी खीरी जिले में बीजेपी द्वारा एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था जिसमे उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री ने आना था। क्योंकि पूरे भारत में किसानों द्वारा तीन किसान विरोधी कानूनों के विरोध में धरने प्रदर्शन चल रहे तो यहां भी किसानों ने काले झंडे दिखाकर शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने का निर्णय किया।

इस क्षेत्र के सांसद भारत सरकार की मोदी सरकार ने गृह राज्य मंत्री है और उनकी एक वीडियो वायरल हो रही है जिसमे वो सार्वजनिक रूप से धमकी दे रहे हैं कि जो लोग उनके मंत्री बनने से पहले का इतिहास नहीं जानते वो समझ ले कि किसानों को दो मिनिट में सीधा कर देंगे।

और किसानों के अनुसार उन्होंने अपना काम करके दिखा दिया। आरोप है कि मंत्री जी का बेटा कुल तीन बड़ी गाड़ियों में प्रदर्शन कर रहे किसानों की सड़क पर आया तथा किसानों को अपनी कारों से कुचलता हुआ खुद तो भाग गया किन्तु कथित रूप से उसके कुछ साथी मौके पर ही पकड़े गए।

इस घटना में अभी तक 5 किसानों की शहादत सहित कुल 9 लोगो के मारे जाने की खबर है जिनमे एक किसान का 20 वर्षीय युवा भी है।

अचानक हुए इस हादसे को अधिकांश लोग "नरसंहार" की संज्ञा दे रहे हैं जिसके तुरन्त बाद किसान नेता राकेश टिकैत अपने काफिले के साथ रात को ही घटना स्थल पर पहुंच गए थे और गुरुनानक देव स्कूल में किसानों के साथ बैठक के बाद उन्होंने मांग की है कि गृहराज्य मंत्री को तुरन्त बरखास्त किया जाए जिससे वो जांच अधिकारियों पर दबाव न बना सके। मंत्री के आरोपी बेटे को तुरन्त गिरफ्तार किया जाए तथा जांच उत्तर प्रदेश से बाहर सुप्रीम कोर्ट के निरक्षण में कराई जाए। प्रत्येक मृतक के परिवारों को एक करोड़ रूपए मुआवजा तथा एक सरकारी नौकरी भी दी जाए।

किसान नेताओ एवम् मृतक परिवारों ने निश्चय किया है कि जब तक उनकी मांगे नहीं मानी जाती तब तक मृतकों का अंतिम संस्कार भी नहीं किया जाएगा।

घटना स्थल पर किसानों से संवेदनाएं वयक्त करने के लिए रात को ही कांग्रेस नेता श्रीमती प्रियंका गांधी वाड्रा ने जाने का कार्यक्रम बनाया लेकिन उत्तर प्रदेश पुलिस ने रोक कर गिरफ्तार कर लिया। 

सुबह जब अन्य विपक्षी नेताओं ने भी जाने की घोषणा की तो उन्हे भी हाउस अरेस्ट कर लिया गया। लखीमपुर खीरी के लिए सबसे नजदीक हवाई अड्डा लखनऊ ही पड़ता है और यहां आने के लिए अन्य राज्य छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री को भी लखनऊ तक आने की अनुमति नहीं दी गई। पंजाब के मुख्यमंत्री ने भी आने के लिए लैंडिंग की अनुमति मांगी थी लेकिन उन्हें भी नहीं आने दिया गया।

उत्तर प्रदेश के कांग्रेस नेता सुरेंद्र राजपूत ने इसे नरसंहार बताते हुए इसकी कड़ियां जोड़कर इसे साजिशन की गई हत्याएं बताया और जो भारत के प्रधान मंत्री के इशारे पर की गई हैं क्योंकि 2 अक्तूबर के अपने भाषण में प्रधान मंत्री जी ने किसान आंदोलन के विरोध में बयान दिया था फिर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का एक वीडियो वायरल हुआ जिसमें वो प्रत्येक गांव में लाठी धरी गैंग बनाने और किसानों को जवाब देने की बात करते दिखाई दे रहे हैं तथा कार्यकर्ताओं को तसल्ली दे रहे हैं कि वो जमानत की चिंता न करें क्योंकि कुछ दिन जेल में रहने के बाद वो बड़े नेता बन जाएंगे।।

मुख्य आरोपी के पिता एवम् मोदी सरकार के गृह राज्य मंत्री ने तो दस दिन पहले ही घोषणा कर दी थी कि वो दो मिनिट में सीधा कर सकते है ( यद्धपि वो खुद कई अपराधों में अभियुक्त है )

कारण जो भी हो किन्तु विश्व समुदाय के लिए यह एवं इस प्रकार की निरन्तर होने वाली घटनाएं मोदी सरकार की साख को जरूर प्रभावित करेंगी और विश्व इसे किसी आतंकी घटना की तरह ही समझेगा जिसके कारण विश्व में हिन्दुत्व फोबिया जैसी कोई मुहिम शुरू हो सकती हैं।

News Number परिवार मृतकों के परिजनों के साथ हार्दिक संवेदनाएं वयक्त करता है।।

सिंघू बॉर्डर पर किसान आंदोलन स्थल से हत्या के सम्बन्ध मे संयुक्त किसान मोर्चा का बयान

बीती रात दिल्ली हरियाणा बॉर्डर स्थित सिंघु बॉर्डर किसान मोर्चा स्थल से एक युवक का शव पुलिस बेरीकेट पर लटका हुआ पाया गया जिसे धारदार हथियारों से मारे जाने के साक्ष्य प्रथम दृष्टया प्राप्त हुए है। ...

Pind California ! नाम सुनते ही व्यक्ति हैरान होता है लेकिन दिल्ली के टिकरी बॉर्डर पर बसा हुआ यह किसान गांव सेवा और त्याग की मिसाल है।

अक्सर गुरुद्वारा साहिब के शब्द कीर्तन में सुना होगा "सतगुरु की सेवा सफल है" और इसी के साथ सिख धर्म को जानने वाले यह भी जानते है कि अंतिम आदेश श्री गुरु ग्रंथ साहिब को गुरु मानने तथा संगत ( जनता ) में ईश्वर का वास देखने का है। ...

हम बेईमान क्यो कहलाते है ? क्योंकि हमारे नेता, हमारे अधिकारी और हम खुद बतौर एक वोटर, ईमानदार नहीं है।

यकीनन किसी भी भारतीय के मन में अपने इर्दगिर्द के माहौल को देखकर यह सवाल पूछने का मन करता होगा " हम बेईमान क्यों है" ...

किसान आंदोलन स्थल गाजीपुर बॉर्डर पर बीजेपी कार्यकर्ताओं एवं किसानों के बीच अप्रिय स्थिति।

दिल्ली यूपी सीमा पर स्थित गाजीपुर बॉर्डर स्थित किसान आंदोलन स्थल पर बीजेपी कार्यकर्ताओं द्वारा हंगामा एवम् नारेबाजी किए जाने पर दोनों पक्षों में अप्रिय विवाद खड़ा हो गया। ...

किसान आंदोलन में नई अंगड़ाई से दिल्ली गाजीपुर बॉर्डर पर व्यापक हलचल

पश्चिमी उत्तर प्रदेश से अचानक बढ़ी भीड़ के कारण गाजीपुर बॉर्डर पर किसान आंदोलन स्थल पर हलचल से सरकार दबाव में आ सकती हैं। ...

खाप व्यवस्था और किसान आंदोलन ! बाबा बन्दा सिंह बहादुर को दहिया खाप का प्रणाम।।

किसान आंदोलन और सरकार की साजिशें दोनों आमने सामने अपनी अपनी चाले चल रही है लेकिन हरियाणा के जाट समुदाय की दहिया खाप ने बीजेपी द्वारा फुट डालो राज करो की नीति का उत्तर अनाज से भरी ट्रॉलियां भेज कर दिया।। ...

किसान आंदोलन कर रहे किसानों द्वारा हरियाणा सरकार को खुली चुनौती। सरकार बैकफुट पर।

हरियाणा के विधायक देवेंद्र बबली द्वारा किसानों को गालियां दिए जाने और तीन किसानों की गिरफ्तारी के विरोध में आज हरियाणा के टोहाना में महापंचायत का आयोजन किया जा रहा है। ...

भारत सरकार द्वारा पारित तीन किसान विरोधी कानूनों के विरूद्ध आंदोलन कर रहे किसानों द्वारा विरोध दिवस।

किसान आंदोलन के छह महीने पूरे होने के साथ ही संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा 26 मई को काला दिवस मनाया जा रहा है। ...

किसान आंदोलन के छह माह पूरे होने के साथ ही सरकार की उदासीनता से एक बार फिर आंदोलन को नई ऊर्जा देने की कवायत

छह महीने से दिल्ली की सरहदों पर आंदोलन कर रहे किसानों द्वारा आंदोलन को फिर से नई ऊर्जा देने की तैयारी ...

हमे भूल तो नहीं गए ? बेशक बच्चे भूल जाए लेकिन मां बाप दुख सहकर भी बच्चो के लिए कुर्बानियां करते हैं।

बेमौसम बरसात के कारण किसान आंदोलन स्थल पर परेशानियां बढ़ी लेकिन उससे ज्यादा दुखद सरकार, मीडिया और दिल्ली वासियों द्वारा नजरंदाज किया जाना है। ...

दिल्ली पुलिस एवम् निहंग साहेबान के बीच तीखी बहस के बाद विवाद सुलझा और दिल्ली पुलिस द्वारा निहंग बाबा जी की अपील स्वीकार करने का आश्वासन।।

गर्मियों के मौसम में घोड़ों को होने वाली परेशानी के कारण निहंग साहेबान द्वारा दिल्ली पुलिस से बेरीकेट्स हटाने की मांग पर विचार के लिए अधिकारी तैयार।। ...

अचानक आयी आंधी के कारण गाजीपुर बॉर्डर स्थित किसान आंदोलन स्थल पर कई टेंट तथा अस्थाई डेरों को नुकसान पहुंचा।

गाजीपुर बॉर्डर स्थित किसान आंदोलन स्थल पर तेज आंधी के कारण कई तम्बू तथा डेरे गिर गए । ...

करोना लहर और किसान आंदोलन ! सरकार एवम् किसान "तू डाल डाल मै पात पात" के खेल में है, देखे कौन किसको मात देता है ?

करोना की दूसरी लहर की खबरों के बीच फैलता खौफ और सम्भावित लॉक डाउन के कारण क्या किसान आंदोलन को भी हटाया जा सकता है ? ...

संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा 10 अप्रैल शनिवार को कुंडली, मानेसर- पलवल हाई वे 24 घंटे के लिए काम करने की घोषणा।

आज कुंडली बॉर्डर पर हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में शनिवार 10 अप्रैल को केएमपी पेरीफेरल रोड को 24 घंटे के लिए जाम करने की घोषणा की गई। ...