Pind California ! नाम सुनते ही व्यक्ति हैरान होता है लेकिन दिल्ली के टिकरी बॉर्डर पर बसा हुआ यह किसान गांव सेवा और त्याग की मिसाल है।

अक्सर गुरुद्वारा साहिब के शब्द कीर्तन में सुना होगा "सतगुरु की सेवा सफल है" और इसी के साथ सिख धर्म को जानने वाले यह भी जानते है कि अंतिम आदेश श्री गुरु ग्रंथ साहिब को गुरु मानने तथा संगत ( जनता ) में ईश्वर का वास देखने का है।

सिखिज्म सेवा को सर्वोच्च प्राथमिकता देता है और उसमे भी जाति, धर्म या मित्र, शत्रु में भेदभाव की आज्ञा नहीं देता। कहते है कि शाम को युद्ध के बाद लंगर में यदि शत्रु सैनिक भी आ जाए तो उसको भी सादर लंगर छकाया जाता था। इसके अतिरिक्त फ्लोरेंस नाइटेंगल से भी पहले भाई कन्हैया जी हुए हैं जो युद्ध में घायल सैनिकों को बिना भेदभाव के जल सेवा उपलब्ध कराते थे।

कुछ ऐसी ही परम्पराओं की लडी में एक नाम है डॉक्टर स्वाई मान सिंह ( Dr Swaiman Singh ) अमेरिका के केलिफोर्निया के सम्मानित हृदय रोग विशेषज्ञ किन्तु पिछले 9 महीनों से सभी बदलते मौसमों में किसानों के बीच सेवा करते हुए। यह इनकी चौथी पीढ़ी है जो किसानों के साथ ज़ुल्म के विरूद्ध संघर्ष में साथ खड़ी है।

नवम्बर 2020 काले कृषि कानूनों के विरोध में किसानों के जत्थे पंजाब से दिल्ली की और बढ़ने लगे जिससे बहरी सरकार को इशारों से ही समझाया का सके कि कोई भी देश मित्र उद्योगपति/पूंजीपति नहीं बनाते अपितु किसान और जनता बनाती हैं।

वैसे भी उत्पादन केवल किसान ही करता है, पूंजीपति तो केवल उत्पाद की शक्ल बदलता है ( लोहे से जहाज़ बना देना लोहे को जहाज़ में बदलना ही तो हैं, उगाया या प्रकृति से लिया तो कुछ नहीं )

बीजेपी शासित हरियाणा की खट्टर सरकार ने सभी संभव ज़ुल्म किए और किसानों के जत्थों को रोकना चाहा किंतु अंततः दिल्ली की सरहदों पर मोर्चा जुड़ गया। किसान रुके तो उन्हे सर्दी की मार और सम्भावित कोई भी बीमारी की चिंता भी सताने लगी।।

धरना तथा किसानों की अमानवीय दशा के समाचार जैसे ही बाहर पहुंचे तो दिल्ली एयरपोर्ट पर एक अकेला दरवेश उतरा जिसे कोई लेने भी नहीं आया था और टिकरी बॉर्डर पर किसानों के बीच पहुंच गया। राठी पेट्रोल पंप वाले धर्मेंद्र राठी साहब ने इन्हे अपना निजी विश्राम करने का कमरा सौंप दिया और डॉक्टर Swaiman Singh की किसानों के लिए सेवा यात्रा शुरू हो गई।।

इनकी माता जी से बात करने पर जानकारी मिली कि माता जी के नाना जी अंग्रेज़ो के विरूद्ध जैतो दा मोर्चा में शामिल थे और अंग्रेज़ो द्वारा उन्हे केवल 16 साल की उम्र में इतना टॉर्चर किया गया जिससे वो जीवन भर पीड़ित रहे।

डॉक्टर साहब के नाना जी ने 23 साल तक भारतीय सेना की सेवा की तथा पंजाब में स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया के संस्थापक सदस्य थे।

जब यह परिवार अमेरिका आया तब Swaiman Singh केवल दस साल के थे तथा जीवन की शुरुआत गैस स्टेशन ( पेट्रोल पंप ) पर नौकरी से की लेकिन मेहनत और लगन से कार्डियोलॉजिस्ट बन गए।

इनके बड़े भाई संग्राम सिंह और बहन तथा माता जी भी अमेरिका की तमाम विलासिता छोड़कर किसानों की सेवा में समर्पित है। आज इनके साथ स्थानीय डॉक्टर्स एवम् कार्यकर्ताओं की कभी ना थकने वाली टीम है जो जैसी भी आवश्यकता होती हैं सादर हाजिर होते है।

सर्दियों की शुरुआत में इन्होंने स्लीपिंग तंबू लगवाए थे, आजकल लगभग सौ स्कवायर फिट का पोर्टेबल कमरा उपलब्ध करा रहे है जिससे बारिश से बचा जा सके। मेडिकल कैंप के अतिरिक्त यदि आज हरियाणा सरकार मांगे ना मानती तो करनाल में भी "पिंड कैलिफोर्निया" बसाने की तैयारी हो चुकी थी।।

News Number परिवार इस परम्परा से सेवा करने वाले दरवेशों का हृदय से सम्मान करता है।।

ਇੱਕ ਧਰਨਾ ਮੁੱਕਿਆ ਨਹੀਂ ਦੂਜੇ ਦਾ ਹੋ ਗਿਆ ਐਲਾਨ, 11 ਜੂਨ ਨੂੰ ਭਾਕਿਓ ਦੇਵੇਗੀ ਬੈਂਕਾਂ ਖ਼ਿਲਾਫ਼ ਧਰਨਾ

ਕਿਸਾਨਾਂ ਦਾ ਇੱਕ ਸੰਘਰਸ਼ ਹਾਲੇ ਹਰੇਕ ਕਿਸੇ ਲਈ ਸਿਰ ਦਰਦ ਸਾਬਤ ਹੋ ਰਿਹਾ ਹੈ, ਇਨ੍ਹੇ ਨੂੰ ਕਿਸਾਨਾਂ ਵੱਲੋਂ ਦੂਜੇ ਧਰਨੇ ਦਾ ਐਲਾਨ ਵੀ ਕਰ ਦਿੱਤਾ ਗਿਆ ਹੈ। ...

ਸਬਜ਼ੀ ਵਿਕਰੇਤਾਵਾਂ ਅਤੇ ਕਿਸਾਨ ਯੂਨੀਅਨ ਲੱਖੋਵਾਲ ਅੱਜ ਫਿਰ ਹੋਏ ਆਹਮੋ ਸਾਹਮਣੇ

ਅੱਜ ਸਬਜ਼ੀ ਵਿਕਰੇਤਾਵਾਂ ਅਤੇ ਭਾਰਤੀ ਕਿਸਾਨ ਯੂਨੀਅਨ ਲੱਖੋਵਾਲ ਵਿੱਚ ਉਸ ਵੇਲੇ ਖੜਕ ਗਈ ਜਦੋਂ ਫਿਰੋਜ਼ਪੁਰ ਸ਼ਹਿਰ ਦੀ ਸਬਜ਼ੀ ਮੰਡੀ ਵਿੱਚ ਕੁਝ ਸਬਜ਼ੀ ਵਿਕਰੇਤਾਵਾਂ ਨੇ ਸਬਜ਼ੀ ਵੇਚਣੀ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰ ਦਿੱਤੀ। ...

ਕਿਸਾਨ ਅੰਦੋਲਨ ਨਾਲ ਟੁੱਟੀ ਸਰਕਾਰ ਦੀ ਨੀਂਦ : ਦਰਬਾਰਾ ਸਿੰਘ

ਭਾਰਤੀ ਕਿਸਾਨ ਯੂਨੀਅਨ ਏਕਤਾ ਉਗਰਾਹਾਂ ਦੀ ਮੀਟਿੰਗ ਜ਼ਿਲ੍ਹਾ ਪ੍ਰਧਾਨ ਅਮਰੀਕ ਸਿੰਘ ਗੰਢੂਆ ਦੀ ਪ੍ਰਧਾਨਗੀ ਹੇਠ ਸੁਨਾਮ ਵਿੱਚ ਹੋਈ, ਜਿਸ ਵਿੱਚ ਪਟਿਆਲਾ ਧਰਨੇ ਦੀ ਸਮੀਖਿਆ ਕੀਤੀ ਗਈ। ...