दक्षिण एशिया और मध्य एशिया का पुल जो graveyards of empires कहलाती हैं आजकल दुनियां की नजरों में है।

स्लतनतों की कब्रगाह के नाम से प्रसिद्ध धरती का ऐसा भूभाग जिसकी मिट्टी में युद्ध और अशांति जंगली घास की तरह उपजती है। दक्षिण एशिया और मध्य एशिया को जोड़ने वाले इस सामरिक महत्व के प्राकृतिक संसाधनों से भरपूर हिस्से को अफगानिस्तान के नाम से जाना जाता है।

मैथोलॉजी और किवदंतियों में महाभारत से लेकर चन्द्रगुप्त मौर्य तक का सम्बन्ध तत्कालीन गांधार देश से जोड़ा जाता हैं तो अलेक्जेंडर और रोमन साम्राज्य से भी टकराने के लिए याद किया जाता है किन्तु क्या इसका वास्तविक इतिहास ऐसा ही था ?

अफगानिस्तान के नामालूम तथ्य

कल से सोशल मीडिया पर बहुत लोग अफगानिस्तान में हुई उथल पुथल पर तालिबान को खाप वाले कहे जा रहे है जबकि तालिबान एक धार्मिक सिस्टम है ना अफगानिस्तान का सामाजिक सिस्टम ।

अब अगर आपको अफगानिस्तान को थोड़ा बहुत भी समझना है तो खाली अफगानिस्तान ही नहीं इस इलाके के बहुत सारे देशों के इतिहास पर नजर डालनी होगी , ये सारे देश एक ही तरीके के थे ।

ये है अफगानिस्तान , ईरान , बलोचिस्तान , खैबर पख्तूनख्वा , उज्बेकिस्तान , तुर्कमेनिस्तान , तजाकिस्तान , कजाकिस्तान , किर्गिस्तान ,मंगोलिया। इसके अलावा इनका असर इराक , अज़रबैजान और भारत की इंडस वैली के इलाकों पर भी नजर आता है । इतिहास में ये इलाके कई बार एक ही शासन के अधीन रहे है पर ये तब तब था जब इस्लाम का इन पर प्रभाव नही था ।

आज का अफगानिस्तान तो अब्दाली के समय सामने आया पहले ये कई शक्ल के रूप में रहा । यहाँ फारस , हुन , कुषाण ( बहुत लोग कुषाणों को भारत का कह देते है , उनका राज्य राजस्थान तक था मगर वे आये चीन की तरफ से थे ) मौर्य ,अरबो और सिक्खों के अधीन रहा । यहाँ यूनानी भी आये । इस्लाम से पहले यहाँ फारस के धर्म और बौद्ध का प्रभाव था और ये इन सभी देशों में था ।

अफगानिस्तान और उज्बेकिस्तान की सीमा पर उज्बेकिस्तान के अंदर तरमेज के इलाके में बौद्ध धर्म के एक बहुत बड़े मठ के अवशेष है । ये अफगानिस्तान सीमा से मात्र एक दो km की दूरी पर है और इसी कारण वहां कोई जाता नहीं है हालांकि जपान ने मदद की है वहाँ । इन सभी देशों में फारस के धर्मो के अवशेष आज भी है । 

 बहुत सारे लोग भारत पर हमला करने वाले तैमूर और बाबर को अफगानिस्तान का मानते है मगर ये दोनों के इलाके उज्बेकिस्तान में है । बाबर समरकंद का था और तैमूर जिसने भारत मे बहुत मारकाट मचाई थी वो तो उज्बेकिस्तान में राष्ट्रीय नायक है , ताशकंद में बहुत बड़ी मूर्ति है उसकी ।

अब इन इलाकों का पिछले ढाई हजार साल का इतिहास देखे जब इस्लाम भी नही था तो यहाँ जीवन यापन का मुख्य तरीका लूट रही है । कई कई कबीले मिलकर एक ग्रुप बना कर बड़ी दूर दूर तक लूट कर के आते थे और ऐसे ही कई देश और धर्म बनते रहे और बिगड़ते रहे । अफगानिस्तान कभी गंधार तो कभी पख्तूनख्वा तो कभी किसी और नाम से जाना गया ।

7 , 8वी सदी में यहां इस्लाम आया और बौद्ध धर्म खत्म हो गया । अब ये कुषाणों की तरह हिंदू कुश की पहाड़ियों को पर कर गंगा के मैदानों तक लूट करने लगे । लूटते कोई गवर्नर लगाते और वापिस चले जाते । 

  मगर 20 सदी में बहुत बदलाव हुए इन इलाकों में एक बड़े भूभाग को रूस ने सोवियत संघ में मिला लिया ।

जो इलाके सोवियत संघ के प्रभाव में आये खासकर उज्बेकिस्तान , तजाकिस्तान , कजाकिस्तान , किर्गिस्तान वो अपनी लूट करने की प्रवृत्ति छोड़कर सामान्य जीवन जीने लगे , उन पर यूरोप का असर बहुत आया । इन देशों में सुन्नी मुस्लिम ज्यादा है मगर वहाँ औरतों बच्चो को पूरी आजादी है । तजाकिस्तान ने तो अब हिजाब पहनने पर पाबंदी हटा दी है । अब ये सभी देश पर्यटन को बढ़ावा दे रहे है । 

  अफगानिस्तान में भी रूस आया मगर यहाँ कुछ समय तक ठीक रहने के बाद फिर पुरानी परंपरा पर चल पड़े। यूरोपियन को खुद अफगानों ने सिक्खों के खिलाफ एंट्री करवाई थी तब से इनका यही हाल है। अफगानिस्तान में खेती कारोबार कुछ नहीं है और इसलिए जो गुट हावी होता है उसी के साथ बन्दूक लेकर चल पड़ते है क्योंकि इन सब ने पेट पालना है ।

  अफगानिस्तान में भारत की तरह कई बोलिया और कई समुदाय है , इनमें पख्तून सबसे ज्यादा है मगर उसके साथ तुर्कमान , उज्बेक , हजारा , ताजिक और बलोच भी है। इन हजारा कबीला ही शिया मुस्लिम है और पिछली तालिबान सरकार के वक़्त हजारा काफी बड़ी संख्या में मार दिये गए थे । अफगानों को पिछले डेढ़ सदी से एक बहुत बड़ा मलाल भी है जिसे वो आज तक नही पचा पाए और वो है पाकिस्तान में खैबर पख्तूनख्वा का इलाका जिसका पेशावर गढ़ था ।

इस इलाके को अफगानिस्तान से जीत कर महाराजा रणजीत सिंह केसरी निशान साहिब ( जिस पर 26 जनवरी को दिल्ली में लाल किले पर विवाद हुआ था ) के अधीन खालसा राज में शामिल कर लिया था । ये अफगानिस्तान के बहुत बड़ा और महत्वपूर्ण इलाका था मगर सिक्खों की वजह से आज अफगानों के पास नही है।

तालिबान ने पिछली खैबर पख्तूनख्वा के इलाके में अपने लड़ाके भेजे थे और तब यहाँ हिन्दू सिक्ख हसन अब्दाल के पंजा साहिब गुरुद्वारा में शरण ले गए थे और पाकिस्तान सरकार ने सुरक्षा का प्रबंध किया था मगर इस इलाके में आज भी पाकिस्तान सरकार का कोई खास प्रभाव नही है । इमरान खान इसी खैबर पख्तूनख्वा इलाके से आते है और वो पख्तून है ।

News Number पर यह सीरीज जारी रहेगी इसलिए कृपया जुड़े रहे।

अफ़ग़ानिस्तान कार्यवाहक सरकार की घोषणा और इसका भारत पर असर !

अंतरराष्ट्रीय राजनीति और दुनियां के बदलते समीकरण की बात करते ही सबसे महत्वपूर्ण घटना अमेरिकी एवम् नाटो फोर्सेज का बीस साल की जद्दोजहद के बाद अफगानिस्तान को छोड़ कर निकल जाना है। ...

काबुल से अंतिम अमेरिकी सैनिक की विदाई के साथ अफ़गान समस्या समाप्त या शुरुआत ?

20 साल तक जमीन के छोटे से टुकड़े और क़बीलाई संस्कृति वाले दिलेर लोगो की बस्ती पर विश्व के 40 देशों एवम् महाशक्ति अमेरिका की फोर्सेज कोशिश करती रही कि वहां भी पश्चिमी जगत बना दिया जाए। उसी समय ( 2001) पाकिस्तान के हामिद गुल ने सार्वजनिक रूप से कहा था कि इस प्रयास में अमेरिका को अमेरिका द्वारा ही हराया जाएगा और वही हुआ। ...

तालिबान अफगानिस्तान के बढ़ते कदम पाकिस्तान और ईरान के लिए एक बड़ा खतरा !

जिस तेजी से और सामरिक योजना से तालिबान आगे बढ़ रहे है और सम्भावना जताई जा रही है कि वो काबुल फतह कर लेंगे तो क्या इसके बाद क्षेत्र में शांति स्थापित हो जाएगी या एक नया खतरा बढ़ जाएगा। ...

अपनी अस्मिता और भारतीयों की सुरक्षा के लिए प्रयासरत भारतीय विदेशमंत्री !

एक ओर तो अफगानिस्तान में गृहयुद्ध की आशंका बढ़ रही हैं तो दूसरी ओर सभी पक्ष अपनी अपनी सुरक्षा के लिए चिंतित है। ...

दक्षिण एशिया का टाइम बम जिसकी सुईयां तेजी से घूम रही हैं।

अमेरिकी सैनिकों की वापसी के साथ साथ अफ़गान राष्ट्रपति अशरफ गनी को कोई सकारात्मक आश्वासन न मिलना क्षेत्र के लिए चिंता का विषय बनता जा रहा है। ...

अफ़गान राष्ट्रपति की अमेरिका यात्रा

इस प्रकार बहुचर्चित अफ़गान राष्ट्रपति अशरफ गनी की अमेरिकी यात्रा खत्म हुई । वापसी के बाद अफगानिस्तान एवम् दक्षिण एशिया के भविष्य की क्या स्थिति हो सकती हैं। ...

अफ़गान राष्ट्रपति अशरफ गनी की अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन से मुलाकात ।

बीस साल से चल रही जंग की समाप्ति के साथ ही अमेरिका द्वारा अमेरिकी एवम् नाटो फोर्सेज की वापसी के साथ ही अफ़गान तालिबान द्वारा अधिकांश क्षेत्रो पर कब्जे के बीच अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन से मुलाकात की। ...

अफगानिस्तान ! अमेरिकी तथा नाटो फोर्सेज की वापसी के बाद क्या ? तालिबान प्रवक्ता सुहैल शहीन से बातचीत

जिस तेजी से अमेरिकी सैनिकों की वापसी अफगानिस्तान से हो रही है और तालिबान द्वारा अफ़गान जमीन पर अपना कब्ज़ा कायम किया जा रहा है उससे सम्भावित भविष्य के हालात पर तालिबानी प्रवक्ता सुहैल शाहीन से एक बात।। ...

अफगानिस्तान का भविष्य ? आज के हालात पर NewsNumber की विशेष रिपोर्ट

तेजी से अफगानिस्तान को विकल्पहीन छोड़कर निकलती नाटो एवम् अमेरिकी फोर्सेज के बाद अफगानिस्तान का भविष्य एक बड़ा सवाल बनकर उभर रहा है।। ...

अफ़गान तालिबान से भारत ने सम्पर्क कायम किया जिससे अफ़गान शांति की राह में कुछ नए बदलाव महसूस किए जा रहे हैं।।

भारतीय विदेश मंत्री श्री एस जयशंकर प्रसाद की दोहा एवम् कुवैत यात्रा के बीच अफगानिस्तान के सरकारी मीडिया टोलो न्यूज द्वारा भारत द्वारा तालिबान से सम्पर्क करने की खबर का क्या अर्थ हो सकता है ? ...

अफगानिस्तान में अमेरिकी सैनिकों की वापसी से बढ़ती अराजकता का भारत पर प्रभाव !

जैसे जैसे अमेरिकी एवम् नाटो फोर्सेज अफगानिस्तान से अपने अड्डे खाली कर रहे है और अफगानिस्तान से निकल रहे हैं वैसे ही दक्षिण एशिया किसी बड़े युद्ध की ओर तेजी से बढ़ता नजर आ रहा है।। ...

अफगानिस्तान से अमेरिकी एवम् नाटो फोर्सेज की वापसी लेकिन भविष्य में शांति की गारंटी नहीं।

अमेरिकी सैनिकों की वापसी के कार्यक्रम के साथ दिए जा रहे बयानात के मद्देनजर अभी दक्षिण एशिया में शांति की उम्मीद नहीं की जा सकती। ...