कहते हैं कि आम फलो का राजा होता है और साथ ही राजाओं का फल भी होता है।

फलों का राजा यदि आम होता है तो बेशक राजाओं का पसंदीदा फल भी आम ही रहा होगा।आम तौर पर मुग़ल काल को उत्तर भारत में बेहतर भोजन की जानकारी देने के सन्दर्भ में भी जाना जाता है।। कहते है कि मुग़ल काल से ही यहां व्यवस्थित बाग़ बगीचे लगाने, सिले हुए कपड़े पहनने तथा रोटी सेंकने ( तवा ) का प्रचलन बढ़ा था। लेकिन क्या आम की खीर या पुलाव भी बनता है और यदि हां तो कैसे इसकी जानकारी दी है डॉ शारिक् अहमद खान साहब ने।

आम के दौर में आम के मौसम में क़दीम फ़सील शहर शाहजहानाबाद मतलब पुरानी दिल्ली में एक मीठा व्यंजन शहरियों के घरों में बना करता था,स्थायी दुकानों पर ख़ूब बिका करता था और फेरीवाले भी ये नेमत बना कर इसकी फेरी लगाया करते।इस व्यंजन का नाम था 'आम का मीठा पुलाव' और ये डिश दुनिया को दी मलिका-ए-हिंदोस्तान नूरजहाँ ने जो बादशाह जहाँगीर की बेगम थीं।

अब ये डिश भूली-बिसरी डिश हो चुकी है।आज हमने आम का मीठा पुलाव बनाया।इसे बनाने के लिए चावल लिया और तीन क़िस्म के आम लिए,चौसा-मलीहाबादी दशहरी और लखनवी सफ़ेदा।यदि चाहे तो एक क़िस्म के आम से भी बना सकता है।हमने तीन क़िस्म के आम इसलिए लिए ताकि लज़्ज़त मिलवाँ रहे। चावल को धो लिया,चावल पतीली में डाल ज़रा सा पानी डाला और आमों को हल्का सा ग्राइंड कर उसमें डाल दिया,स्वादानुसार शक्कर डाली और ज़रा से काजू-बादाम को ग्राइंड कर पतीली में डाल दिया,शक्कर डालना ज़रूरी है,वरना खट्टापन आ जाता है।

घी नहीं डाला ताकि हेल्दी रहे,वैसे भी इस डिश में घी नहीं पड़ता था,जबकि ज़र्दे में घी पड़ता है और ये डिश देखने में ज़र्दे जैसी ही लगती है। ख़ैर,अब पतीली को चूल्हे पर चढ़ा दिया,जैसे चावल पकाया जाता है वैसे चावल गलने तक पका लिया।उतारकर ऊपर से मेवे डालकर डेकोरेट किया और फ़्रिज में ठंडा होने के लिए रख दिया। ठंडा होने के बाद निकालकर सर्व किया।शौक़ीन लोग बनाकर इस्तेमाल करें,कौन सी चीज़ किस मिक़दार में पड़ेगी इसके लिए अपनी पसंद का इस्तेमाल करें।

अफ़ग़ानिस्तान कार्यवाहक सरकार की घोषणा और इसका भारत पर असर !

अंतरराष्ट्रीय राजनीति और दुनियां के बदलते समीकरण की बात करते ही सबसे महत्वपूर्ण घटना अमेरिकी एवम् नाटो फोर्सेज का बीस साल की जद्दोजहद के बाद अफगानिस्तान को छोड़ कर निकल जाना है। ...

काबुल से अंतिम अमेरिकी सैनिक की विदाई के साथ अफ़गान समस्या समाप्त या शुरुआत ?

20 साल तक जमीन के छोटे से टुकड़े और क़बीलाई संस्कृति वाले दिलेर लोगो की बस्ती पर विश्व के 40 देशों एवम् महाशक्ति अमेरिका की फोर्सेज कोशिश करती रही कि वहां भी पश्चिमी जगत बना दिया जाए। उसी समय ( 2001) पाकिस्तान के हामिद गुल ने सार्वजनिक रूप से कहा था कि इस प्रयास में अमेरिका को अमेरिका द्वारा ही हराया जाएगा और वही हुआ। ...

दक्षिण एशिया और मध्य एशिया का पुल जो graveyards of empires कहलाती हैं आजकल दुनियां की नजरों में है।

स्लतनतों की कब्रगाह के नाम से प्रसिद्ध धरती का ऐसा भूभाग जिसकी मिट्टी में युद्ध और अशांति जंगली घास की तरह उपजती है। दक्षिण एशिया और मध्य एशिया को जोड़ने वाले इस सामरिक महत्व के प्राकृतिक संसाधनों से भरपूर हिस्से को अफगानिस्तान के नाम से जाना जाता है। मैथोलॉजी और किवदंतियों में महाभारत से लेकर चन्द्रगुप्त मौर्य तक का सम्बन्ध तत्कालीन गांधार देश से जोड़ा जाता हैं तो अलेक्जेंडर और रोमन साम्राज्य से भी टकराने के लिए याद किया जाता है किन्तु क्या इसका वास्तविक इतिहास ऐसा ही था ? ...

तालिबान अफगानिस्तान के बढ़ते कदम पाकिस्तान और ईरान के लिए एक बड़ा खतरा !

जिस तेजी से और सामरिक योजना से तालिबान आगे बढ़ रहे है और सम्भावना जताई जा रही है कि वो काबुल फतह कर लेंगे तो क्या इसके बाद क्षेत्र में शांति स्थापित हो जाएगी या एक नया खतरा बढ़ जाएगा। ...

अपनी अस्मिता और भारतीयों की सुरक्षा के लिए प्रयासरत भारतीय विदेशमंत्री !

एक ओर तो अफगानिस्तान में गृहयुद्ध की आशंका बढ़ रही हैं तो दूसरी ओर सभी पक्ष अपनी अपनी सुरक्षा के लिए चिंतित है। ...

अचानक कनाडा के पुराने स्कूलों में मिले कंकाल की चर्चा के बीच हिंदुस्तान किसको माफी मांगने के लिए कहेगा ?

विकास, आधुनिकता और मानवीयता की लंबी लम्बी बाते करने वाला भारतीय समाज क्या कुछ वर्ष पहले तक की इस हकीकत से आंखे मिला पाएगा ? लेखक द्वारा उसके जीवन की हकीकत लिखी गई है। ...

कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना के शताब्दी समारोह पर क्षी जिंगपिंग का संबोधन।

कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना के शताब्दी समारोह के अवसर पर थियानमेन चौक पर आयोजित समारोह में प्रीमियर शीं जिंगपिग ने अपने संबोधन में विश्व को एक प्रकार से चेतावनी देते हुए बहुत आक्रमक रुख से भाषण दिया। ...

गुरुदत्त और वहीदा रहमान ! चांद और चकोरी सा रिश्ता जो मौत के साथ ख़त्म हुआ।।

भारतीय सिनेमा के कुछ चेहरे जिन्हे कभी नहीं भुलाया जा सकता और उनमें एक नाम गुरुदत्त का है। गुरुदत्त का निजी वैवाहिक जीवन कांटो भरा भी कहा जा सकता है लेकिन वहीदा रहमान को वो जीवन भर भूल नहीं पाए।। ...

दक्षिण एशिया का टाइम बम जिसकी सुईयां तेजी से घूम रही हैं।

अमेरिकी सैनिकों की वापसी के साथ साथ अफ़गान राष्ट्रपति अशरफ गनी को कोई सकारात्मक आश्वासन न मिलना क्षेत्र के लिए चिंता का विषय बनता जा रहा है। ...

1 July कनाडा दिवस या Confederation day of Canada

एक जुलाई , कनाडा वासियों के लिए स्थापना दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस अवसर पर सुदूर बसे देश और भारत की जानकारी। ...

किसान आंदोलन स्थल गाजीपुर बॉर्डर पर बीजेपी कार्यकर्ताओं एवं किसानों के बीच अप्रिय स्थिति।

दिल्ली यूपी सीमा पर स्थित गाजीपुर बॉर्डर स्थित किसान आंदोलन स्थल पर बीजेपी कार्यकर्ताओं द्वारा हंगामा एवम् नारेबाजी किए जाने पर दोनों पक्षों में अप्रिय विवाद खड़ा हो गया। ...

भारत सरकार द्वारा की गई घोषणा और वेक्सिनेशन की वास्तविक स्थिति।

भारत सरकार द्वारा घोषणा की गई थी कि एक जुलाई से प्रतिदिन एक करोड़ व्यक्तियों को वैक्सीन उपलब्ध कराई जाएगी लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और है। ...

सिकलीगर ! सिख समुदाय का एक ऐसा वर्ग जिसे एकदम पराया कर दिया गया।

अक्सर किसी भी बाज़ार के कोने पर सिंह चाबी वाला एक छोटा सा ठिकाना देखा जा सकता है जो सिख होते हुए भी समाज से अलग थलग पड़ गए है। ...

Logical analysis about food habits by a doctor

ਇਨਸਾਨ ਨੂੰ ਕਯੋਂ ਕੋਈ ਖਾਸ ਖੁਰਾਕ ਪਸੰਦ ਆਉਂਦੀ ਹੈ ਤਾਂ ਕੀ ਵਜਹ ਹੈ ਕਿ ਕਿਸੀ ਖਾਸ ਵਕਤ ਤੇ ਭੁੱਖ ਵੱਧ ਜਾਉਂਦੀ ਹੈ ? ਇਕ ਡਾਕਟਰ ਦੇ ਇਸ ਬਾਰੇ ਕੀ ਵਿਚਾਰ ਹੋ ਸਕਦੇ ਹਨ। ...

अफ़गान राष्ट्रपति की अमेरिका यात्रा

इस प्रकार बहुचर्चित अफ़गान राष्ट्रपति अशरफ गनी की अमेरिकी यात्रा खत्म हुई । वापसी के बाद अफगानिस्तान एवम् दक्षिण एशिया के भविष्य की क्या स्थिति हो सकती हैं। ...

चीन की कम्युनिस्ट पार्टी का शताब्दी समारोह और इसके प्रभाव !

तीन दिन तक चलने वाले चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के समारोह की पहली शुभकामनाए रूस के राष्ट्रपति वाल्डिमिर पुतिन द्वारा दी गई जिसके धन्यवाद में चीन ने रूस से अपने ऐतिहासिक सम्बन्धों का हवाला दिया। ...

28 जून 1921 कांग्रेस नेता एवम् भारत के पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय पी वी नरसिंहराव का जन्म दिन।

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री श्री पी वी नरसिंहराव जिनके कार्यकाल में अयोध्या काण्ड हुआ था, उनके जन्मदिन पर विशेष ...