अमेरिकी राष्ट्रपति के तूफानी दौरे और नाटो चार्टर में महत्वपूर्ण बदलाव के साथ विश्व एक नए प्रकार के ब्रह्माण्ड युद्ध की ओर !

अक्सर किसी भी म्यूजियम में जाते है और प्राचीन काल के यौद्धाओं के जिरह बख्तर, भारी भारी तलवारे या अन्य हथियार देखकर न केवल हैरानी होती हैं अपितु सोचते है कि वो कैसा समय रहा होगा जब भारी पत्थर फेंकना युद्ध का हिस्सा होता था और पत्थर फेंकने वाली मशीन भी हार जीत का फैसला कर देती थी। कुछ ऐसा ही बाबर के तोपखाने को देखकर लगता है कि चंद मीटर दूर आग का गोला फेंकना आज के युग की मिसाईल की तुलना में कितना पिछड़ा हुआ हथियार था।

कल्पना करे कि अगली पीढ़ी जब बुढ़ापे में म्यूजियम जाए तो उसे लगे कि लोहे के बड़े बड़े टैंक और बहुत बड़ी मिसायिले भी आपसी युद्ध का हिस्सा कैसे रही होंगी या भारी भारी बन्दूक और मोर्टार दागते सैनिक कैसे होंगे तो इसे कोई फनतासी न समझा जाए क्योंकि शायद भविष्य के युद्ध के बाद ऐसा ही होने वाला है।। एक बार फिर कल्पना को हकीकत में बदलने का समय आ चुका है जिसमे हम Star Wars की पटकथा को हकीकत में होते देख सकेंगे।

नाटो संगठन के सम्मेलन के बाद जारी प्रेस रिलीज में जो महत्वपूर्ण बिंदु है वो है नाटो चार्टर के आर्टिकल 5 में बदलाव। अभी तक के नियमो एवम् समझौते के अनुसार यदि सोवियत संघ या उसके सहायक देशों ( वारसा संधि ) के द्वारा कोई सैनिक हमला किया जाता हैं तो सभी नाटो देश एकजुट होकर उसका मुकाबला करेंगे तथा अपने सैनिकों के द्वारा संगठित होकर जवाब देंगे।। लेकिन न तो सोवियत संघ रहा न वारसा संधि फिर नाटो संगठन क्या करता ? कुछ इसी प्रकार के सवालो के साथ ट्रंप सरकार ने नाटो को वेस्टेज ऑफ़ मनी करार दिया था क्योंकि बदलते परिवेश के साथ साथ युद्ध के तरीके भी बदल गए थे और देशों की जरुरते भी।

कभी अनाज के लिए लडे जाने वाले युद्ध तेल या ऊर्जा के ईंधन के लिए लडे जाने लगे और महाशक्तियां अपने सहयोगी देशों को उसी दृष्टिकोण से सहायक बनाने लगी जिसे जिओ पॉलिटिक्स का नाम दिया गया। भविष्य में "एस्ट्रो पॉलिटिक्स" भी सुनने को मिलेगी इसे NewsNumber के सन्दर्भ से याद रखे।। समय के साथ तकनीक का विकास हुआ और सूचना क्रांति के युग में डेटा किसी भी मूल्यवान वस्तु से अधिक मूल्यवान हो गया तथा छोटी सी चिप एवम् उसमे इस्तेमाल होने वाले रेयर अर्थ मेटल ज्यादा अहम हो गए।

एक देश द्वारा दूसरे देश पर किए गए सायबर अटैक किसी भी मिसायिल अटैक से ज्यादा नुकसानदेह साबित होने लगे और हैकिंग के साथ साथ उसकी फिरौती वसूलना भी युद्ध का हिस्सा बन गया।। गत दिनों अमेरिका की पाइप लाइन ब्लॉक पर सायबर अटैक, कराची एवम् मुंबई की पॉवर सप्लाई को हैकिंग द्वारा बाधित कर देना या ईरान के न्यूक्लियर प्लांट में विस्फोट जिसे इजरायल द्वारा सायबर हैकिंग के माध्यम से किया जाना स्वीकार भी किया गया उसके अतिरिक्त उड़ते हुए जहाजों का जीपीएस सिस्टम एवम् कंट्रोल टॉवर से सम्पर्क तोड़ कर दिशाहीन किया जाना ,, बहुत से उदाहरण हैं जिनसे नए प्रकार के युद्ध का आभास होता है।

नाटो संगठन के वर्तमान सम्मेलन में परिवर्तन के साथ अब सायबर अटैक को भी घोषित युद्ध की श्रेणी में रखा गया है यद्धपि इसके साथ कई व्यवहारिक सवाल खड़े है जिनका जवाब फिलहाल तो नहीं दिया गया जैसे हैकर की नागरिकता तथा स्थान का तय करना आदि।। लेकिन सायबर प्रणाली चलती कैसे हैं ? यदि इस विषय पर विचार किया जाए तो फिर स्टार वार सामने आ जाता हैं। आज इंटरनेट तथा डेटा ट्रांसफर या सूचनाओं का आवागमन सेटेलाइट के माध्यम से होता है और अधिकांश ( लगभग 2000 ) सेटेलाइट पृथ्वी के ऑर्बिट में तेजी से घूम रहे हैं जो real time डाटा ट्रांसफर करते है।

यदि किसी देश पर सायबर अटैक या हैकिंग की जाती हैं तो उसमे इन सेटेलाइट्स का अहम योगदान होता है इसलिए प्रश्न उठता है कि क्या धरती से बाहर भी धरती के कानून लागू हो सकते है ? यदि धरती के ऑर्बिट को किसी देश ने अपनी सम्पत्ति घोषित कर दिया तो उसके विरूद्ध क्या नियम लागू होंगे अथवा इसे दूसरे तरीके से समझने की कोशिश करे तो फिलहाल पृथ्वी की कक्षा की मलकियत किस देश, महाद्वीप या संगठन की है ? कल्पना करे कि भविष्य में यदि और अधिक सेटेलाइट के लिए जगह नहीं बचती तो क्या होगा या यदि कोई देश अपने शत्रु देश के सेटेलाइट को ही तोड़ देता है तो क्या होगा ? इन्हीं सबके मद्देनजर नाटो चार्टर में बदलाव प्रस्तावित है जिससे कोई बड़ा सायबर अटैक करके सेटेलाइट को ही भ्रमित न करें या उसका सॉफ्टवेयर ही हैक न करें।

वैसे भी यदि फिजिकली किसी सेटेलाइट पर हमला करना हो तो उसके लिए अति शक्तिशाली रॉकेट चाहिए होंगे अन्यथा हैवी लेजर बीम से ऐसा करना सम्भव होगा जिसका प्रदर्शन गत वर्ष चीन ने साउथ चाइना सी में किया था।। यह सब आशंकाए इशारा करती हैं कि दुनियां की बड़ी ताकते धरती को बचाने के लिए धरती से बाहर किसी युद्ध की तैयारियों में जुट चुकी हैं और अगले युद्धों में बारूद की गंध तथा धमाकों का शोर किसी परी पुराण की तरह लगेगा। शायद अब युद्ध स्पेक्ट्रम तरंगों तथा लेजर बीम से लडे जाएंगे।

यह सत्ताओं की सोच और शक्तियों के निर्णय है जो आज भी साधारण इंसान को गुलाम या गिनी पिग से बेहतर नहीं समझते क्योंकि अब सरकारों से सवाल पूछने वाले सुकरात पैदा नहीं होते, प्रेम का संदेश देने वाले यशु का अवतार नहीं होता और पड़ोसी की भूख से द्रवित होकर अपनी आधी रोटी बांटने वाला मोहम्मद नहीं दिखता या सरवत दा भला करने वाला नानक नहीं आता। लेकिन इनके अनुयाई भी आवाज़ नहीं उठाते कि भूख से भी अधिक थाली भरना पाप क्यो नहीं कहलाता ?

अफगानिस्तान पर असफल होती भारतीय कूटनीति !

आंगन में सांप घुस आया और उसकी दहशत से परिवार पहले तो घर के अंदर सांस रोक कर छिपा रहा लेकिन बाद मे सांप की लकीर पीट कर खुद को बहादुर और बुद्धिमान साबित करने की कोशिश करने लगा। कुछ ऐसा ही दक्षिण एशिया में शह और मात जैसे खेल खेलने में भारत सरकार का विदेश मंत्रालय नजर आ रहा है। ...

अफ़ग़ानिस्तान कार्यवाहक सरकार की घोषणा और इसका भारत पर असर !

अंतरराष्ट्रीय राजनीति और दुनियां के बदलते समीकरण की बात करते ही सबसे महत्वपूर्ण घटना अमेरिकी एवम् नाटो फोर्सेज का बीस साल की जद्दोजहद के बाद अफगानिस्तान को छोड़ कर निकल जाना है। ...

काबुल से अंतिम अमेरिकी सैनिक की विदाई के साथ अफ़गान समस्या समाप्त या शुरुआत ?

20 साल तक जमीन के छोटे से टुकड़े और क़बीलाई संस्कृति वाले दिलेर लोगो की बस्ती पर विश्व के 40 देशों एवम् महाशक्ति अमेरिका की फोर्सेज कोशिश करती रही कि वहां भी पश्चिमी जगत बना दिया जाए। उसी समय ( 2001) पाकिस्तान के हामिद गुल ने सार्वजनिक रूप से कहा था कि इस प्रयास में अमेरिका को अमेरिका द्वारा ही हराया जाएगा और वही हुआ। ...

दक्षिण एशिया और मध्य एशिया का पुल जो graveyards of empires कहलाती हैं आजकल दुनियां की नजरों में है।

स्लतनतों की कब्रगाह के नाम से प्रसिद्ध धरती का ऐसा भूभाग जिसकी मिट्टी में युद्ध और अशांति जंगली घास की तरह उपजती है। दक्षिण एशिया और मध्य एशिया को जोड़ने वाले इस सामरिक महत्व के प्राकृतिक संसाधनों से भरपूर हिस्से को अफगानिस्तान के नाम से जाना जाता है। मैथोलॉजी और किवदंतियों में महाभारत से लेकर चन्द्रगुप्त मौर्य तक का सम्बन्ध तत्कालीन गांधार देश से जोड़ा जाता हैं तो अलेक्जेंडर और रोमन साम्राज्य से भी टकराने के लिए याद किया जाता है किन्तु क्या इसका वास्तविक इतिहास ऐसा ही था ? ...

तालिबान अफगानिस्तान के बढ़ते कदम पाकिस्तान और ईरान के लिए एक बड़ा खतरा !

जिस तेजी से और सामरिक योजना से तालिबान आगे बढ़ रहे है और सम्भावना जताई जा रही है कि वो काबुल फतह कर लेंगे तो क्या इसके बाद क्षेत्र में शांति स्थापित हो जाएगी या एक नया खतरा बढ़ जाएगा। ...

अपनी अस्मिता और भारतीयों की सुरक्षा के लिए प्रयासरत भारतीय विदेशमंत्री !

एक ओर तो अफगानिस्तान में गृहयुद्ध की आशंका बढ़ रही हैं तो दूसरी ओर सभी पक्ष अपनी अपनी सुरक्षा के लिए चिंतित है। ...

अचानक कनाडा के पुराने स्कूलों में मिले कंकाल की चर्चा के बीच हिंदुस्तान किसको माफी मांगने के लिए कहेगा ?

विकास, आधुनिकता और मानवीयता की लंबी लम्बी बाते करने वाला भारतीय समाज क्या कुछ वर्ष पहले तक की इस हकीकत से आंखे मिला पाएगा ? लेखक द्वारा उसके जीवन की हकीकत लिखी गई है। ...

कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना के शताब्दी समारोह पर क्षी जिंगपिंग का संबोधन।

कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना के शताब्दी समारोह के अवसर पर थियानमेन चौक पर आयोजित समारोह में प्रीमियर शीं जिंगपिग ने अपने संबोधन में विश्व को एक प्रकार से चेतावनी देते हुए बहुत आक्रमक रुख से भाषण दिया। ...