पेट्रोल-डीजल के दामों में बढ़ोत्तरी को लेकर कांग्रेसियों ने किया प्रदर्शन

Last Updated: Jun 29 2020 17:29
Reading time: 1 min, 46 secs

केंद्र सरकार की ओर से पेट्रोल व डीज़ल के मूल्य में की गई अप्रत्याशित वृद्धि को लेकर कांग्रेस पार्टी के आह्वान पर सोमवार को विधानसभा क्षेत्र सुल्तानपुर लोधी के विधायक नवतेज सिंह चीमा ने बड़ी संख्या में कांग्रेसी कार्यकर्त्ताओं समेत स्थानीय कचहरी परिसर में केंद्रीय सरकार के खिलाफ रोष प्रदर्शन करते हुए जमकर नारेबाज़ी की। फिर देश के राष्ट्रपति के नाम एसडीएम सुल्तानपुर लोधी डा. चारूमिता को ज्ञापन सौंपा। विधायक चीमा ने पेट्रोल व डीज़ल के मूल्य में की गई वृद्धि पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि केंद्र का यह कदम किसान विरोधी है। उन्होंने कहा कि पंजाब में किसान धान की रोपाई कर रहे हैं। इस समय पेट्रोल व डीज़ल पर अचानक टैक्स बढ़ाकर सरकार ने किसानों की मुसीबतें बढ़ा दी हैं। 

किसान पहले ही कर्ज़ के जाल में फंसा हुआ है, ऊपर से सरकार ने डीज़ल महंगा करके उनके जख्मों पर नमक छिड़कने का काम कर दिया है। सरकार के इस कदम से न केवल किसान, बल्कि उसके खेतों में काम करने वाले श्रमिक भी प्रभावित होंगे। चीमा ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण लगाए गए लॉकडाउन ने पहले ही किसानों व समाज के अन्य वर्गों की प्रभावित आर्थिकता से उबारने के लिए रियायतें न देकर पेट्रोल पदार्थों पर टैक्स बढ़ा कर उनका उत्पीड़न किया है। चीमा ने चेतावनी दी कि यदि केंद्र ने एमएसपी को खत्म करने की कोशिश की तो पंजाब के किसान आंदोलन करेंगे और दिल्ली की जेलों को भरेंगे। उन्होंने कहा कि चीन की सीमा पर शहीद हुए जवान केंद्र की विफल विदेश नीति का नतीजा है। 

इस मौके पर मार्केट कमेटी के चेयरमैन परविंदर सिंह पप्पा, दीपक धीर राजू, ब्लाक समिति चेसरमैन रजिंदर सिंह तकिया, जिला परिषद उपाध्यक्ष हरजिंदर सिंह, नगर परिषद प्रधान अशोक मोगला, तेजवंत सिंह, बलदेव सिंह रंगीलपुर, सरपंच राजू ढिल्लों, सरपंच फौजी कालोनी गुरप्रीत सिंह, संतप्रीत सिंह, जसपाल सिंह फत्तोवाल, संदीप कलसी, प्यारा सिंह जैनपुरी, अवतार सिंह रंधावा, परमजीत सिंह बाऊपुर, सरपंच गुरमीत सिंह बाऊपुर, सरपंच जसविंदर सिंह हैबतपुर, जुगल कोहली,डिंपल टंडन, हॉबी जैन, सुखविंदर सिंह, निर्मल सिंह हजारा, सतीश छुरा, चरणकमल पिंटा, सरपंच कुंदन सिंह, हीरा कबीरपुर, कुलविंदर सिंह सद्धूवाल, जसवंत सिंह पड्डा, बब्बू खैड़ा, रमेश डिडविंडी तथा हरनेक सिंह विरदी आदि मौजूद थे।