सुल्तानपुर लोधी में चल रहा सियासी शह-मात का खेल (न्यूज़नंबर खास खबर)

Last Updated: Jun 03 2020 14:55
Reading time: 2 mins, 13 secs

सुल्तानपुर लोधी के सियासी गलियारों में शह-मात का खेल चल रहा है। एसपी पद से रिटायर्ड होने के बाद अकाली दल में शामिल होने वाले अर्जुन अवार्डी सज्जन सिंह चीमा ने रविवार को सुबह विधायक नवतेज सिंह चीमा के खिलाफ हलके में कब्जे करवाने को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस की और उसके कुछ घंटों के बाद ही सुल्तानपुर लोधी पुलिस ने सज्जन सिंह चीमा पर रोड एक्सीडेंट के मामले में केस दर्ज़ कर लिया है। हालांकि सज्जन सिंह चीमा ने इस एक्सीडेंट में समझौता होने के बाद सियासी दबाव में विधायक के कहने पर केस दर्ज़ करने के सियासी बदलाखोरी के आरोप लगाए हैं।

डीएसपी सुल्तानपुर लोधी सरवन सिंह बल ने बताया कि कर्मप्रीत सिंह निवासी कपूरथला अपने साथियों समेत 31 मई को 11:30 बजे के करीब गुरुद्वारा श्री बेर साहिब सुल्तानपुर लोधी से माथा टेककर वापस लौट रहे थे। उनकी गाड़ी रेल कोच फैक्टरी के नज़दीक पहुंची तो बारिश होने के कारण उन्होंने अपनी इनोवा गाड़ी सड़क के किनारे खड़ी कर दी। तभी अचानक एक काले रंग की एक इनोवा कार ने उन्हें पीछे से टक्कर मारी, जिसे सज्जन सिंह चीमा चला रहे थे। जिससे उनकी गाड़ी का शीशा टूटने से खरबंदा और उनके साथी को चोट लगी। डीएसपी अनुसार करण खरबंदा की सज्जन सिंह चीमा के साथ तकरार भी हुई। उन्होंने पुलिस को दिए बयान में बताया कि गाड़ी को सज्जन सिंह चीमा चला रहे थे। इसके बाद पुलिस ने शिकायतकर्ता करन खरबंदा के बयान के आधार पर अकाली नेता सज्जन सिंह चीमा के खिलाफ थाना सुल्तानपुर लोधी में विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज़ कर लिया है। अभी तक इस मामले में किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

उधर, अर्जुन अवार्डी अकाली नेता सज्जन सिंह चीमा ने कहा कि रविवार को बारिश बहुत तेज़ हो रही थी और उनके आगे जा रही गाड़ी ने अचानक ब्रेक मार दिया, जिससे पीछे आ रही उनकी गाड़ी को भी ब्रेक लगानी पड़ी, लेकिन बरसात व सड़क पर पानी जमा होने के कारण ब्रेक लगाने के बावजूद उनकी गाड़ी मामूली सी आगे वाली गाड़ी से टकरा गई। इस टक्कर से अगली गाड़ी को कोई नुकसान भी नहीं हुआ, बल्कि उनकी गाड़ी के अगले हिस्से को क्षति पहुंची और एसी भी खराब हो गया। इस मामले को लेकर उस वक्त दोनों पक्षों में समझौता हो चुका था, लेकिन सियासी बदलाखोरी के तहत उनके खिलाफ बिना वजह मामला दर्ज़ कर दिया गया है। जिससे वह डर जाएं और विधायक के खिलाफ मुंह न खोलें। सज्जन चीमा ने बताया कि झूठे केस दर्ज़ कर सच्चाई की आवाज़ को दबाया नहीं जा सकता, इससे वह और भी मुखर होकर कांग्रेस के कारनामों को उजागर करते रहेंगे। विधायक नवतेज सिंह चीमा ने कहा कि पुलिस ने अपना काम किया है। आरोप बेबुनियाद हैं।