Loading the player...

मनुष्य का स्वभाव है कमाना संग्रह करना, फिर चाहे वो धन हो नाते हो सम्बन्ध हो या हो प्रसन्नता, परन्तु क्या आपने कभी यह सोचा है, नियति ने संग्रह करने की यह प्रकृति मनुष्य में क्यों डाली?

Last Updated: Sep 08 2020 11:57
Reading time: 0 mins, 11 secs

मनुष्य का स्वभाव है कमाना संग्रह करना, फिर चाहे वो धन हो नाते हो सम्बन्ध हो या हो प्रसन्नता, परन्तु क्या आपने कभी यह सोचा है, नियति ने संग्रह करने की यह प्रकृति मनुष्य में क्यों डाली?