अस्थमा एक ऐसी बीमारी है जिसमें गला व छाती काफी प्रभावित हो जाता है।

आजकल लड़के और लड़कियों में जॉ लाइन का काफी प्रचलन है।

Easy Outfit Ideas, Festive Looks for Diwali | Diwali Special | Fashion Inspo | Navya Beri

बढ़ती उम्र में अपने शरीर के साथ-साथ त्वचा का खास ध्यान रखना आपकी जिम्मेदारी होती है।

दिवाली की तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं।

काला जीरा कई तरह की बीमारियों को दूर करता है।

मौसमी बीमारियां हों या फिर लंबे समय से चला आ रहा कोई पुराना रोग।

बार-बार उबासी लेने का मतलब नींद नहीं बल्कि सेहत से जुड़ी कई गंभीर बातों का भी संकेत हो सकता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने पांच साल पहले भारत को पोलियो मुक्त घोषित किया है।

दूध में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं जो सेहत बनाएं रखने के लिए बेहद जरूरी होते हैं।

शरीर को सही आकार में करने के लिए आप तरह-तरह के उपाय करते हैं।

वृद्धावस्था में इंसान को कुछ बीमारियां सबसे ज्यादा पेरशान करती हैं। ये बीमारियां बुढ़ापे के दर्द को और बढ़ा देती हैं।

कार्तिक महीने की अमावस्या तिथि को मनाया जाने वाला दीवाली का त्योहार कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि से शुरु होता है।

ठंड के मौसम में सर्दी-जुकाम होना एक आम बात है।

मधुमेह यानी डायबिटीज की बीमारी दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। यह हमारे गलत खान-पान और खराब जीवनशैली के कारण होता है।

भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (FSSAI) त्योहारी सीजन के दौरान मिठाई में होने वाले मिलावट को लेकर खासा सख्त हो गया है।

कसरत करना सेहत के लिए अच्छा होता है। ये तो सभी जानते हैं लेकिन जरूरत से ज्यादा मोटे लोगों को खासतौर पर कसरत की सलाह दी जाती है।

आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी की वजह से लोग अपने खाने पीने पर जरा सा भी ध्यान नहीं देते हैं और उल्टा सीधा खाना बिना सही वक्त के खा लेते हैं।

15 अक्तूबर को हर साल विश्व भर में ग्लोबल हैंडवाशिंग डे मनाया जाता है।

अक्सर विशेषज्ञ ये सलाह भी देते हैं कि अपनी त्वचा कि चमक को बरकरार रखने के लिए पूरे दिन का 'स्किन रूटीन' फॉलो करना जरूरी है।

गठिया या आर्थराइटिस हड्डियों के जोडों की बीमारी है।

आर्थराइटिस से मतलब गठिया से होता है। जिसमें शरीर के जोड़ों में दर्द होने लगता है।

चाय हर एक व्यक्ति की जरूरत है। दिन की शुरुआत बिना चाय के हो ऐसा हो ही नहीं सकता।

आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में तनाव एक गंभीर बीमारी का रूप ले रही है।

11 अक्तूबर को विश्व मोटापा दिवस मनाया जाता है। इस दिन को मनाने का बस एक ही उद्देश्य है लोगों में मोटापे के प्रति जागरूकता पैदा करना और साथ ही स्वास्थ्य के प्रति सचेत करना।

त्योहारों के मौसम में खरीददारी करना आम बात है। घर की जरूरत का सामान हो या फिर अपने और परिवार के लिए कुछ लेना हो।

आज के समय में लोग प्रतिदिन घंटो तक स्मार्टफोन और लैपटॉप जैसे गैजेट्स का इस्तेमाल करते हैं।

बालों का सफेद होना आम बात है लेकिन अगर ये बाल कम उम्र में ही सफेद होना शुरु हो जाएं तो फिर समस्या बन जाती हैं।

आमतौर पर यही माना जाता है कि पेडीक्योर पांवों की साफ-सफाई व उन्हें सुंदर बनाने के लिए किया जाता है।

8 Different Ways to Style One Kurta कुर्ती | Fashion Inspo | Navya Beri

यदि बार-बार सिरदर्द हो रहा है तो इसे हल्के में न लें।

आलू हर एक सब्जी में अच्छा लगता है। लेकिन आप आलू के बारे में कितना जानते हैं?

स्वस्थ रहने के लिए अलग-अलग तरह की डाइट प्लान का अनुसरण करने के लिए कहा जाता है।

ऑटो इम्यून बीमारी के प्रति अभी भी ज्यादा लोग जागरुक नहीं हैं। कई बार लोग इस बीमारी को लंबे समय से झेल रहे होते हैं और उन्हें पता भी नहीं होता है। इस बीमारी में शरीर की कोशिकाओं में बदलाव आने लगता है। इस बीमारी में दर्द एक अहम लक्षण है।

Load More