प्राइवेसी को ध्यान में रखते हुए Apple ने कम्पनी से 300 कर्मचारियों को निकाला

Last Updated: Aug 24 2019 16:32
Reading time: 0 mins, 50 secs

गूगल, अमेजन और एपल के वर्चुअल असिस्टेंट को लेकर हमेशा से बवाल होता रहा है। आए दिन खबरें आती रहती हैं कि Google, Amazon और Apple के वर्चुअल असिस्टेंट्स यूजर्स की प्राइवेट बातें सुन रह रहे हैं। वहीं अब टेक कंपनियों ने भी इस बात की पुष्टि कर दी है वे कॉन्ट्रेक्टर्स के जरिए यूजर्स की रिकॉर्डिंग सुनती हैं। इसके पीछे कंपनियों ने वर्चुअल असिस्टेंट को बेहतर बनाने का हवाला दिया है।

वहीं अब एपल ने यूजर्स की प्राइवेसी को ध्यान में रखते हुए ऑडियो क्लिप सुनने वाले अपने 300 कॉन्ट्रैक्टर्स को हटा दिया है। कंपनी ने जिन 300 कॉन्ट्रैक्टर्स को बाहर का रास्ता दिखाया है वे एक शिफ्ट में एक हजार ऑडियो क्लिप्स को सुनते थे ताकि सीरी को और बेहतर बनाया जा सके, हालांकि ये कॉन्ट्रैक्टर्स अपनी मर्जी से लोगों की निजी बातें नहीं सुनते थे, बल्कि एपल इसके लिए उन्हें पैसे देती थी। इससे पहले एपल ने प्राइवेसी और डाटा लीक को लेकर बिगड़ते माहौल को देखते हुए इस प्रोग्राम को बंद करने का एलान किया है।