की-बोर्ड और माउस के जरिये भी फेसबुक करता है जानकारी प्राप्त

Tarun Nayyar
Last Updated: Jun 14 2018 16:36

कैम्ब्रिज एनालिटिका डेटा लीक विवाद के बाद से फेबसुक लगातार सवालों में घिरा हुआ है। फेसबुक ने माना है किया है कि वो यूजर की निजी जानकारी, पसंद-नापसंद जानने के लिए उसके कम्प्यूटर की-बोर्ड और माउस के मूवमेंट तक पर नजर रखता है। यानी कि अगर आपके कम्प्यूटर पर फेसबुक लॉगइन है, तो माउस के हर क्लिक और की-बोर्ड के हर इस्तेमाल की खबर फेसबुक तक पहुंच रही है। इस जानकारी से फेसबुक ये पता लगाता है कि यूजर्स किस तरह के कंटेंट ज्यादा उसे करता है और उस पर कितनी देर तक ठहरता हैं। इस जानकारी के उपयोग से ही फेसबुक यूजर को विज्ञापन दिखाता है।  

फेसबुक किस तरह रखता है यूजर्स पर नजर?

डिवाइस इन्फॉर्मेशन: आप जिस कम्प्यूटर, मोबाइल या डिवाइस से फेसबुक लॉगइन करते हैं, उसकी जानकारी फेसबुक को रहती है। जैसे कि डिवाइस में कितना स्टोरेज बचा है, कौन-कौन से फोटो हैं, किसके नंबर सेव हैं।

ऐप इन्फॉर्मेशन: फेसबुक को ये भी पता रहता है कि यूजर डिवाइस में कौन-कौन से ऐप मौजूद हैं। यूजर किस ऐप को ज्यादा यूज़ करता है।

डिवाइस कनेक्शन: यूजर किस नेटवर्क का इस्तेमाल कर रहा है या कौन सा वाई-फाई चला रहा है, यह खबर भी फेसबुक को पता रहती है। फेसबुक डिवाइस जीपीएस पर भी नजर रखता है, जिससे उसे यूजर की लोकेशन मिलती रहती है।

बैटरी लेवल: फेसबुक यूजर की डिवाइस के बैटरी लेवल की भी निगरानी रखता है। इससे फेसबुक को पता लगता है कि ऐप यूजर के डिवाइस की ज्यादा बैटरी तो नहीं ले रहा है। उस हिसाब से वो ऐप को अपडेट करता है।