आसाराम मामले में चश्मदीद गवाह के बेटे का अपहरण

Bhawna Sharma
Last Updated: Jun 13 2018 16:52

आसाराम के खिलाफ बलात्कार के मामले में गवाह रहे कृपाल सिंह की हत्या का एक चश्मदीद गवाह रामशंकर विश्वकर्मा का 16 वर्षीय बेटा धीरज विश्वकर्मान सोमवार को घर से लापता हो गया था। काफी तलाश करने पर जब धीरज नहीं मिला तो मंगलवार रात पुलिस में अपहरण का मुकद्दमा दर्ज कराया गया। पुलिस में मामला दर्ज करवाने के बाद धीरज घर लौट आया था। 

कृपाल सिंह की कैंट क्षेत्र में 10 जुलाई 2015 को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस मामले में रामशंकर विश्वकर्मा एक मुख्य गवाह है। रामशंकर का कहना है की 28 जून को अदालत में हम आसाराम के लोगों के विरुद्ध गवाही ना दें इसलिए उन पर दबाव बनाने के लिए बेटे का अपहरण किया गया था। हालांकि अगवा धीरज घर लौट आया है।

धीरज ने बताया उसे बिहोश करके गाड़ी में डाल कर मेरठ की ओर ले जाया जा रहा था। मेरठ में अपहरण करने वाले लोग सामान लेने चले गए तो वह गाड़ी से निकल कर मेरठ रेलवे स्टेशन पहुंच गया जहां जी.आर.पी ने उसे शाहजहांपुर जाने वाली ट्रेन में बिठा दिया और वह घर आ गया। पुलिस अधिकारी दिनेश त्रिपाठी का कहना है कि अपहरण का मुकद्दमा दर्ज करा दिया गया है। पुलिस जब देर रात को पड़ताल के संबंध में शिकायतकर्ता के घर गई तो धीरज वहीं मिला। पुलिस मामले की जांच कर रही है।