29 साल में पहली बार गोरखपुर का सांसद न राजपूत होगा, न मठाधीश

Hemant
Last Updated: Mar 14 2018 14:52

गोरखपुर की संसदीय सीट पिछले 29 साल से गोरखनाथ मठ में रही है। यह भाजपा का मजबूत दुर्ग है। 1989 से इस सीट पर गोरखनाथ मंदिर से जुड़ी हस्तियां ही जीत का भगवा ध्वज फहराती आ रही हैं। लेकिन इस बार हुए उपचुनाव में चाहे भाजपा उम्मीदवार जीते या सपा, एक बात तय है कि इस बार क्षेत्र का सांसद मठ से बाहर काहोगा। इतना ही नहीं वो गैर राजपूत भी होगा। योगी आदित्यनाथ ने पिछले पांच बार से गोरखपुर से सांसद रहने के बाद पिछले साल यूपी के सीएम बनने के बाद यहां की लोकसभा सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था।