लेफ्ट के दुर्ग त्रिपुरा में शाह के लिए कमल खिलाना नहीं आसान

Hemant
Last Updated: Jan 12 2018 16:49

पूर्वोत्तर का राज्य त्रिपुरा लेफ्ट का मजबूत किला माना जाता है। पिछले पांच विधानसभा चुनावों से लेफ्ट का कब्जा है। माणिक सरकार ने 2013 के विधानसभा चुनावों में ईमानदारी को एक प्रमुख मुद्दा बताया और जीत के साथ वामपंथी पार्टियों का झंडा बुलंद किया था। लेकिन इस बार राज्य का सियासी मिजाज गड़बड़ाया है। लेफ्ट के इस दुर्ग में भाजपा सेंधमारी के लिए बेताब हैं। गौरतलब है कि 1978 के बाद सिर्फ एक बार लेफ्ट हारा है। बाकी सभी विधानसभा चुनाव में लेफ्ट का कब्जा रहा है।