दादागिरी की सियासत करने में माहिर हैं कैप्टन व बादल: कटारिया

Mahesh Kumar
Last Updated: Dec 09 2017 19:05

शिव सेना (बाल ठाकरे) पंजाब के वरिष्ठ नेता जगदीश कटारिया ने पंजाब की मौजूदा कांग्रेस व पूर्व अकाली-भाजपा गठबंधन सरकार की ओर से अपने-अपने समय में अपने कई विरोधी सियासी नेताओं व कार्यकर्ताओं पर कथित झूठे पुलिस मामले दर्ज करवाने के रूझान पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह, पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल, उप-मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल व उनके कई वरिष्ठ साथी नेताओं को कथित दादागिरी की सियासत करने में माहिर करार दिया है। उन्होंने कहा कि सभी सियासी दलों व उनके नेताओं को विचारधारा की सियासत को पहल देनी चाहिए।

कटारिया ने कहा कि कई सियासी दलों व उनके नेताओं की ओर से निजी स्वार्थों की पूर्ति के लिए मुख्य सड़कों के बीच कई-कई घंटों के लिए धरने लगाकर आम जनता के लिए बड़ी परेशानियां पैदा करने को कभी भी लोकतंत्र, न्याय व बुद्धिमत्ता की बात नहीं कहा जा सकता। उन्होंने कहा कि पंजाब में अधिकांश सियासी दलों विशेषकर सत्ताधारी नेताओं की ओर से सत्ता, पुलिस व कानून का दुरुपयोग करना केवल लोकतंत्र के लिए खतरनाक ही नहीं है, बल्कि इससे रंजिश की सियासत की जड़ें मजबूत होती हैं। सिविल व पुलिस प्रशासन को किसी भी सत्ताधारी सियासी दल व उसके नेताओं की कठपुतली बनने से गुरेज करना चाहिए। कटारिया ने चेतावनी भरे शब्दों में कहा कि शिवसेना (बाल ठाकरे) पंजाब, लोकतंत्र व लोकहितों को पहल देते हुए किसी भी सियासी दल की सरकार की करे कोई और भरे कोई की सियासत व नीति को किसी भी कीमत पर सहन नहीं करेगी।