वाल्मीकि समाज भगवान वाल्मीकि जी का निरादर कदापि सहन नहीं करेगा: हमीरा

Mahesh Kumar
Last Updated: Nov 19 2017 14:25

विभिन्न वाल्मीकि जत्थेबंदियों वाल्मीकि मजहबी सिख मोर्चा, पंजाब शिरोमणि रंगरेटा दल, रावण सेना और अलग-अलग नेताओं व वर्करों ने एकत्रित होकर शनिवार को वाल्मीकि मंदिर चूहड़वाल में रोष प्रदर्शन किया गया। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने जमकर नारेबाजी भी की। धरने को संबोधित करते हुए वाल्मीकि मजहबी सिख मोर्चा के प्रधान महिंदर सिंह हमीरा ने कहा कि भगवान वाल्मीकि जी का निरादर किसी भी कीमत पर सहन नहीं किया जाएगा। आए दिन टीवी चैनलों, अखबारों, नाटकों के माध्यम से भगवान वाल्मीकि महाराज का निरादर किया जाता है और हमारे इतिहास को खत्म करने की साजिश की जा रही है। जिस प्रति प्रशासन व सरकार गंभीर नजर नहीं आ रही है। 

उन्होंने कहा कि बीते दिनों सरकारी मिडल स्कूल चूहड़वाल की अध्यापिका ने आठवीं कक्षा के बच्चों को बिना किसी सिलेबस के अपने विचारों के अनुसार हिंदी लेख सत्संगी लिखा दिया। जिसमें भगवान वाल्मीकि महाराज के खिलाफ गलत टिप्पणी और भगवान वाल्मीकि जी का निरादर किया गया। जिसको वाल्मीकि समाज कभी सहन नहीं करेगा। समूह प्रदर्शनकारियों ने प्रशासन से मांग की कि उक्त स्कूल की अध्यापिका के खिलाफ धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का मामला दर्ज करके उसे गिरफ्तार किया जाए। उन्होंने प्रशासन को चेतावनी दी कि यदि अध्यापिका पर मामला दर्ज न किया गया, तो वाल्मीकि मजहबी सिख मोर्चा, शिरोमणि रंगरेटा दल, रावण सेना, सेंटर वाल्मीकि सभा यूके और अन्य वाल्मीकि समाज की जत्थेबंदियों को साथ लेकर विशाल आंदोलन शुरू करेगी, जिसकी जिम्मेदारी प्रशासन और पंजाब सरकार की होगी। इस अवसर पर शिरोमणि रंगारेटा दल के वाईस प्रधान पंजाब सिंह नाहर, रावण सेना लखवीर सिंह लंकेश, वाल्मीकि मजहबी सिख मोर्चा के सचिव बलविंदर सिंह घारू, पूर्व सरपंच गुरनाम सिंह, तरसेम सिंह ठट्ठ, सर्कल प्रधान स्वर्ण सिंह रोमी सुभानपुर, नरिंदर सिंह डोगरांवाल, साबी लंकेश, अजय औजला, गौरव लंकेश, विक्रांत लंकेश, मदन लाल घई, सोहन लाल, बीबी शीला देवी, सतनाम सिंह गिल, बाबा जीवन सिंह डोगरांवाल, गुरेदव सिंह व अन्य सदस्य उपस्थित थे।