मांगों को लेकर भड़के बैंक अधिकारी

Mahesh Kumar
Last Updated: Aug 22 2017 19:46

मांगों को लेकर बैंकों के कर्मचारी एवं अधिकारियों ने भारतीय स्टेट बैंक के समक्ष एकत्रित होकर धरना दिया और केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। धरने को संबोधित करते हुए सेक्रेटरी कामरेड राजन बाबू, प्रधान कामरेड जे.एस. टोहरा, सीनियर उप-प्रधान कामरेड अशवनी भल्ला, कामरेड शाम सुंदर गुप्ता एवं कामरेड आर.के. कौशल ने बताया कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का निजीकरण न करने, विलय और बैंकों के एकीकरण की योजना बंद करने, कॉर्पोरेट के एनपीए को खारिज न करने, जानबूझ कर बैंक ऋणों का भुगतान नहीं करना व अपराधिक अपराध के रुप में घोषित करने तथा एनपीए वसूली पर संसदीय समिति की सिफारिशों को लागू करने आदि की मांग की गई है। इसके साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि अगर इन मांगों पर अमल नहीं हुआ तो संघर्ष तेज किया जाएगा, जिसकी जिम्मेदारी सरकार की होगी। इस अवसर पर अशोक भगत, बलविंदर, रोहित, अंशु पांडेय, विपन, साश्वत सैणी, बलकार, राजिंदर कुमार, अमन, प्रेम, गगनदीप सिंह, अनिल कुमार, अमृतपाल सिंह, किशोरी, रोबन, अशोक कुमार, वरिंदर कौर, जसकिरण कौर, जसविंदर कौर, जे.के कश्यप, अश्वनी, नंद किशोर, आशा, जसप्रीत कौर, सुरजीत, राजिंदर पांडेय, सोनिया, हरविंदर कौर, संगीता, सुरिंदर भाटिया, कुलविंदर सिंह, निशांत, शरनपाल सिंह, परनीत सिंह, मंगल सिंह, यशपाल, संजीव सिंगला, अरुण शर्मा, हर्ष, हैपी तथा अन्य सदस्य उपस्थित थे।