स्विस बैंक ने भारत सरकार को सौंपा खाताधारकों का कच्चा चिट्ठा

Last Updated: Oct 07 2019 17:16
Reading time: 1 min, 1 sec

काले धन को लेकर आज मोदी सरकार को बड़ी सफलता हाथ लगी है। सरकार को स्विट्जरलैंड की सरकार से मिली खातों की जानकारी मिली है। पहले दौर का विवरण स्विट्जरलैंड ने भारत को सौंप दिया है, जिसमें चालू खातों की भी जानकारी शामिल है। स्विट्जरलैंड के संघीय कर प्रशासन ने 75 देशों को एईओआई के वैश्विक मानदंडों के तहत वित्तीय खातों के ब्योरे का आदान-प्रदान किया है, जिनमें भारत भी शामिल है। स्विट्जरलैंड के टैक्स विभाग के अनुसार, इसके बाद भारत सरकार को अगली जानकारी 2020 में सौंपी जाएगी। स्विट्जरलैंड में दुनिया के 75 देशों के करीब 31 लाख खाते हैं जो रडार पर हैं, इनमें भारत के कई खाते भी शामिल हैं।

सूत्रों के मुताबिक जो जानकारी मिली है उसमें सभी खाते गैरकानूनी नहीं हैं। सरकारी एजेंसियां अब इस मामले में जांच शुरू करेंगी, जिसमें खाताधारकों के नाम, उनके खाते की जानकारी को बटोरा जाएगा और कानून के हिसाब से एक्शन लिया जाएगा। बता दें कि इससे पहले जून 2019 में स्विस नेशनल बैंक की ओर से जारी रिपोर्ट में देखा गया था कि स्विस बैंकों में भारतीयों के खातों में जमा राशि में गिरावट आई है। वहीं 2018 के आंकड़ों के अनुसार स्विस बैंक में अब भारतीयों का केवल 6757 करोड़ रुपया ही जमा है।