मरे हुए भिखारी की झोपड़ी से मिले लाखों के सिक्के

Last Updated: Oct 07 2019 17:07
Reading time: 0 mins, 59 secs

लोकल ट्रेन से कटकर मारे गए भिखारी की झोंपड़ी से तलाशी के दौरान जो कुछ मिला उससे पुलिस के होश फाख्ता हो गए। भिखारी का नाम बिरभिचंद आजाद था और गोवंडी रेलवे स्टेशन पर ट्रैक पार करते वक्त लोकल ट्रेन से कटकर इसकी मौत हो गई। भिखारी की पहचान होने पर रेलवे पुलिस की टीम उसकी झोपड़ी में पहुंची तो बोरियां और थैलियां में सिक्के भरे हुए मिले। इतना ही नहीं भिखारी के घर से बैंक की पासबुक भी मिली है, जिसमें कुल 8 लाख 77 हजार रुपये जमा की रसीद मिली है। सिक्कों को गिनने में पुलिस को 8 घंटे लग गए और ये करीब ढाई लाख रुपये के थे।

झोपड़ी से भिखारी का आधार कार्ड, पैन कार्ड और सीनियर सिटिजन कार्ड मिला है। जिस पर राजस्थान का पता लिखा हुआ है। राजस्थान के रहने वाले बिरभचिंद मुम्बई के गोवंडी इलाके में रेल पटरी के पास ही रहते थे और रेलवे स्टेशन पर भीख मांगकर अपना गुजारा करते थे, लेकिन किसी को अंदाजा नहीं था कि उनके पास इतने पैसे होंगे। भिखारी के पड़ोसियों ने बताया कि पहले बिरभिचंद आजाद के साथ उसका परिवार भी रहता था, लेकिन बाद में उसका पूरा परिवार चला गया और वह अकेला रहने लगा।