सोलो ट्रिप पर जाना चाहते हैं तो इन बातों का रखे ख्याल

Last Updated: Jul 07 2019 16:19
Reading time: 2 mins, 11 secs

पिछले काफी समय से लोगों में अकेले घूमने का क्रेज काफी बढ़ता देखा जा रहा है। आज की इस भागदौड़ भरी जिंदगी में हर कोई चाहता है कि वह कुछ समय अपने साथ बिताए। सोलो ट्रिप पर जाने के कई फायदे हैं। आप कहीं भी घूमने जा सकते हैं। जितने चाहे लोगों से मिल सकते हैं। आपके साथ कोई आपको रोकने-टोकने वाला नहीं होगा। सुनने में तो ये सारी बाते बहुत अच्छी लगती हैं, लेकिन सोलो ट्रैवलिंग में कई दिक्कतों का सामना भी करना पड़ सकता है।  

एडवांस तैयारी 
अकेले जा रहे हैं तो इसका ये मतलब नहीं है कि बैग लिया और निकल गए। ट्रिप की पूरी तैयारी एडवांस में करें। अपनी डायरी में सब कुछ नोट कर लें, जिससे आपको ट्रिप के दौरान किसी तरह की परेशानी न उठानी पड़े। जरूरी नहीं है कि आपकी पूरी प्लानिंग काम आएगी, लेकिन ऐसा कर आप पहले से ट्रांसपोर्ट से लेकर रूकने तक का बंदोबस्त कम लागत में कर लेंगे।

दिन के समय करें ट्रैवल
अकेले घूमने जा रहे हैं तो कोशिश करें दिन के समय ट्रैवल करें। ऐसा इसलिए क्योंकि दिन के समय में सड़कों पर रौनक होती है और आप सेफ होते हैं। इसके अलावा दिन के समय में रात की तुलना में कम किराया भी लगता है। अगर आप सात से आठ घंटे का ट्रेवल कर रहे हैं तो इसके लिए रात के समय बेस्ट है। ऐसे में सरकारी बस से जाना अच्छा ऑप्शन है। 

लगेज कम लेकर जाएं
आप अकेले सफर करने जा रहे हैं तो कोशिश करें लगेज कम लेकर जाएं। ऐसा इसलिए क्योंकि आप घूमने से ज्यादा सामान ढोने में लगे रहेंगे। आपका पूरा ट्रिप सामान ढोने में निकल जाएगी।

स्थानीय लोगों से मिलें 
अपनी यात्रा को यादगार बनाने के लिए वहां के स्थानीय लोगों से मिलें और उनसे दोस्ती करें, लेकिन सावधानी के साथ। नए लोगों के देखकर हर कोई उन्हें लूटने के लिए तैयार बैठा रहता है, लेकिन आपके साथ कोई स्थानीय होगा तो वह आपको कम लागत में शहर घूमने में मदद करेगा। इसके अलावा ये नए रिश्ते आपको आगे भी काम आएंगे।

जरूरत का सामान साथ रखना न भूलें
सोलो ट्रैवलर को हमेशा अपने पास मैप, दवाइयां, पानी की बोतल, चाकू, लाइटर, छाता और घड़ी रखनी चाहिए। ट्रिप के दौरान जब इन छोटी-छोटी चीजों की जरूरत होती है तो इन्हें खरीदने में आपका बजट बिगड़ जाता है। 

पैदल चलें
सोलो ट्रिप पर पैसे बचाना जरूरी है। ऐसे में सबसे अच्छा ऑप्शन है कि पैदल चलें। जहां भी घूमने गए हैं उस शहर की गलियों को पैदल नापें। पैदल चलकर आपको जो अनुभव मिलेगा वो किसी कैब या टैक्सी में नहीं। ऐसा करने से आप शहर की अच्छे से जान पाएंगे और कुछ बचत भी हो जाएगी।