रेप और ब्लैकमेल के मामले में मुंबई हाईकोर्ट ने करण ओबेरॉय को दी ज़मानत

Last Updated: Jun 07 2019 19:02
Reading time: 1 min, 9 secs

टीवी एक्टर करण ओबरॉय को मुंबई हाईकोर्ट ने शुक्रवार को जमानत दे दी है। करण पिछले एक महीने से जेल में थे। उन पर एक महिला ने रेप और ब्लैकमेल करने का आरोप लगाया था। करण और ये महिला साल 2016 से रिलेशनशिप में थे। करण के वकील दिनेश तिवारी के मुताबिक, जस्टिस रेवाती मोहिते-डेरे ने इस मामले में महिला और पुलिसवालों की आलोचना की और 50,000 रुपए के मुचलके पर एक्टर को जमानत दे दी। 

बता दें कि 34 साल की एक महिला ने 4 मई को एफआईआर दर्ज कराई थी। शिकायत के मुताबिक करण ने अक्टूबर 2017 में शादी का झांसा देकर महिला से रेप किया था। करण पर आरोप है कि उसने वीडियो भी बनाया था और महिला को धमकी दी थी कि अगर उसने पैसे नहीं दिए तो वे इस वीडियो को वायरल कर देंगे।  

करण ओबरॉय के वकील तिवारी ने कहा कि एफआईआर एकदम गलत है और उनके क्लाइंट यानी करण ने कभी उनसे शादी की बात नहीं की थी। गौरतलब है कि बेल की अर्जी की सुनवाई के दौरान कोर्ट ने पाया कि महिला पर 25 मई को हुए हमले की घटना को उन्होंने खुद ही प्लांट किया था। इस घटना की साजिश में उनके वकील भी शामिल थे। करण ओबेरॉय की फैमिली ने इस मामले में कोर्ट में बेल की अर्जी दी थी, जिसे दोनों पक्षों की दलीलें सामने आने के बाद खारिज कर दिया गया था।