कांग्रेस द्वारा दिए तीन तलाक विधेयक बयान पर जानिए क्या कहना है अरुण जेटली का

Last Updated: Feb 08 2019 13:59
Reading time: 1 min, 0 secs

कांग्रेस द्वारा दिया तीन तलाक विधेयक बयान पर केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने आज विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि लोगों के जमीर को झकझोरने वाली बरेली की "निकाह हलाला" जैसी घटनाओं को असंवैधानिक घोषित कर दिया जाना चाहिए। खबर के अनुसार उत्तर प्रदेश स्थित बरेली में एक महिला को उसके पति ने दो बार तलाक दिया और फिर से उससे विवाह किया। इस दौरान महिला को दो बार निकाह-हलाला और इद्दत की मुद्दत का पालन करना पड़ा। इसके अंतर्गत पहले तलाक के बाद महिला का निकाह हलाला उसके ससुर के साथ हुआ, जबकि दूसरी बार पति के भाई के साथ। 

वहीं फेसबुक के एक पोस्ट "बरेली 'निकाह-हलाला' क्या आपकी जमीर को नहीं झकझोरता?" पर अरुण जेटली ने कहा, "दुर्भाग्यवश, जब सुबह के अखबार में यह खबर पढ़ कर लोगों का जमीर जागना चाहिए था। अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के अध्यक्ष और उनके साथी अल्पसंख्यक सम्मेलन में तीन तलाक पर सजा का प्रावधान करने वाला विधेयक वापस लेने का वादा कर रहे हैं।" आपको बता दें कि बीती गुरुवार को कांग्रेस के सम्‍मेलन में महिला कांग्रेस प्रमुख सुष्मिता देव ने कहा था कि "अगर हमारी सरकार केंद्र में आती है तो हम तीन तलाक कानून को ही खत्‍म कर देंगे।"