शिक्षा के क्षेत्र को मजबूत बनाने के लिए शिक्षा मंत्री ने उठाए नए कदम

Last Updated: Jul 11 2018 19:54

आज पंजाब के शिक्षा मंत्री ओम प्रकाश सोनी ने कहा कि अध्यापकों की बदलियों में चलती रिश्वतख़ोरी को बिल्कुल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने ऐलान किया कि जो भी व्यक्ति अध्यापकों की बदलियों में रिश्वत लेने या देने संबंधी पक्के सबूतों के साथ जानकारी देगा, उसे पांच लाख रुपए का इनाम दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि बदलियों का काम बिल्कुल पारदर्शी तरीकों से सम्पूर्ण किया जा रहा है और इसमें किसी भी तरह का राजनैतिक दबाव या पैसों का दख़ल नहीं होने दिया जा रहा।

शिक्षा विभाग और पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड के अधिकारियों की उच्च स्तरीय मीटिंग की अध्यक्षता करते हुए सोनी ने कहा कि पुस्तकों का प्रकाशन और वितरण सत्र शुरू होने से पहले करना यकीनी बनाई जाए। उन्होंने गाइडों के बढ़ते रुझान को रोकने के लिए सभी पुस्तकों माहिरों की सलाह के साथ बोर्ड द्वारा ही इनको छपवाने के लिए कहा है। उन्होंने आगे कहा कि बोर्ड में कोई भी सामान सरकारी रेटों पर न खरीदा जाए, बल्कि सभी कामों के लिए ऑनलाइन टैंडरिंग प्रक्रिया अपनाई जाए। इस मीटिंग में शिक्षा विभाग के सचिव कृष्ण कुमार, डायरैक्टर जनरल स्कूल शिक्षा प्रशांत कुमार गोयल, पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड के चेयरमैन मनोहर कांत कलोहिया, डी.पी.आई. (सेकंडरी) परमजीत सिंह, डी.पी.आई. (एलिमेंट्री) इन्द्रजीत सिंह और अन्य अधिकारी उपस्थित थे।